NDTV Khabar

मृणालिनी साराभाई कौन हैं? जानिए उनकी जिंदगी के बारे में 10 बातें

Mrinalini Sarabhai को Google ने Doodle बनाकर याद किया है. क्‍लासिकल डांस को नई बुलंदियों तक पहुंचाने का श्रेय उन्‍हें ही जाता है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मृणालिनी साराभाई कौन हैं? जानिए उनकी जिंदगी के बारे में 10 बातें

मृणालिनी साराभाई को 1992 में पद्भ भूषण से नवाजा गया

खास बातें

  1. गूगल ने डूडल बनाकर मृणालिनी साराभाई को याद किया है
  2. मृणालिनी साराभाई का आज 100वां जन्‍मदिन है
  3. मृणालिनी साराभाई ने क्‍लासिकल डांस के क्षेत्र में बेहतरीन काम किया
नई द‍िल्‍ली : Mrinalini Sarabhai (मृणालिनी साराभाई) को आज गूगल ने डूडल बनाकर याद किया है. मृणालिनी साराभाई वो नाम है जिसे युगों-युगों तक याद किया जाता रहेगा. क्‍लासिकल डांस को बुलंदियों तक पहुंचाने का श्रेय अगर  किसी को जाता है तो वो मृणालिनी साराभाई ही हैं. रबींद्रनाथ टैगोर की देखरेख में पढ़ाई करने वाली मृणालिनी का आज 100वां जन्‍मदिन है. इस मौके पर हम आपको उनकी जिंदगी से जुड़ी 10 बातें बता रहे हैं.

मृणालिनी साराभाई की याद मेंं गूगल ने बनाया डूडल
 
1. मृणालिनी साराभाई का जन्‍म 11 मई 1918 को केरल में हुआ था. उनके पिता एस स्‍वामीनाथन मद्रास हाईकोर्ट में क्रिमिनल लॉयर थे. उनकी मां एवी अम्‍मुकुट्टी जिन्‍हें अम्‍मू स्‍वामीनाथन के नाम से जाना जाता है मशहूर समाजसेवी और स्‍वतंत्रता सेनानी थीं.  

2. मृणालिनी साराभाई की  बड़ी महन लक्षमी सहगल स्‍वतंत्रता सेनानी सुभाष चंद्र बोस की आजाद हिंद फौज के तहत बनी 'झांसी की रानी रेजिमेंट' की कमांडर इन चीफ थीं. उनके बड़े भाई गोविंद स्‍वामीनाथन मशहूर वकील थे.

3. मृणालिनी का शुरुआती बचपन स्विट्जरलैंड में बीता. इसके बाद रबींद्रनाथ टैगोर के मार्गदर्शन में उन्‍होंने शांतिनिकेतन में पढ़ाई की. उन्‍होंन कुछ समय अमेरिका में भी बिताया जहां उन्‍होंने अमेरिकन एकेडमी ऑफ डैमेटिक आर्ट्स में एडमिशन ले लिया. भारत लौटने के बाद उन्‍होंने मीनाक्षी सुंदरम पिल्‍लई से भरतनाट्यम सीखा. उन्‍होंने गुरु कुंचु कुरुप से कथकली की ट्रेनिंग ली.

4. मृणालिनी ने 1942 में विक्रम साराभाई से शादी की. विक्रम साराभाई को भारतीय अंतर‍िक्ष कार्यक्रम का जनक माना जाता है. उनके दोनों बच्‍चों कार्तिकेय और मल्लिका ने डांस और थिएट‍र को अपना करियर बनाया. कहा जाता है कि मृणालिनी और विक्रम साराभाई की शादीशुदा जिंदगी खुशहाल नहीं थी. 

5. मृणालिनी साराभाई ने 300 से भी ज्‍यादा डांस ड्रामा कोरियोग्राफ करने के साथ ही कई सारे नॉवल्‍स, कविताएं, नाटक और बच्‍चों की कहानियां भी लिखीं. 

6. मृणालिनी साराभाई गुजरात स्‍टेट हैंडीक्राफ्ट और हैंडलूम डेवलेपमेंट कार्पोरेशन लिमिटेड की चेयर पर्सन थीं. वो सर्वोदय इंटरनेशनल ट्रस्‍ट की ट्रस्‍टी भी थीं. इसके साथ ही वो नेहरू फाउंडेशन फॉर डेवलेपमेंट की चेयरपर्सन भी थीं. 

7. मृणालिनी साराभाई को 1965 में पद्मश्री और 1992 में पद्म भूषण से सम्‍मानित किया गया. उन्‍हें 1994 में संगीत नाटक अकादमी फेलोश‍िप भी दी गई. उन्‍हें Folklorico of Mexico बैलेट कोरियोग्राफ करने के लिए मेक्सिको सरकार ने गोल्‍ड मेडल से नवाजा. 

8. उनके नाम पर क्‍लासिकल डांस के क्षेत्र में 'मृणालिनी साराभाई अवॉर्ड फॉर क्‍लासिकल एक्‍सीलेंस' अवॉर्ड दिया जाता है. 

टिप्पणियां
9. मृणालिनी साराभाई की बायोग्राफी का नाम द वॉयस ऑफ द हर्ट है. 

10. मृणालिनी साराभाई का निधन 21 जनवरी 1997 में हुआ था...


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement