प्रकृति से प्यार ने दिलाया बड़ा सम्मान, सूरत की इस 17 वर्षीय लड़की को UNEP ने बनाया एंबेसडर

ख़ुशी चिंदलिया (Khushi Chindaliya) को महज 17 साल की उम्र में संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (UNEP) ने भारत के लिए क्षेत्रीय राजदूत यानी रीजनल एंबेसडर (RA)  के रूप में नियुक्त किया है. 

प्रकृति से प्यार ने दिलाया बड़ा सम्मान, सूरत की इस 17 वर्षीय लड़की को UNEP ने बनाया एंबेसडर

17 वर्षीय ख़ुशी चिंदलिया को UNEP ने बनाया एंबेसडर.

नई दिल्ली:

गुजरात के सूरत की रहने वाली 17 वर्षीय ख़ुशी चिंदलिया (Khushi Chindaliya) को पर्यावरण के प्रति प्यार और लगाव के चलते बेहद कम उम्र में एक बड़ी उपलब्धि हासिल हुई है. ख़ुशी चिंदलिया (Khushi Chindaliya) को महज 17 साल की उम्र में संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (UNEP) ने भारत के लिए क्षेत्रीय राजदूत यानी रीजनल एंबेसडर (RA)  के रूप में नियुक्त किया है. एंबेसडर के रूप में चुनी गई 17 वर्षीय ख़ुशी चिंदलिया (Khushi Chindaliya) का अपनी इस उपलब्धि पर कहना है कि उन्होंने अपने होमटाउन के चारों ओर फैली हरियाली को सूखा पड़ते देखकर प्रकृति को बचाने के उपाय खोजने शुरू कर किए थे. 

खुशी ने समाचार एजेंसी ANI को बताया, "जब मैं और मेरा परिवार शहर में नए घर में शिफ्ट हुए, तो मुझे चारों तरफ हरियाली दिखाई देती थी. मेरे घर के पास चीकू के पेड़ों ने कई पक्षियों को रहने की जगह दी और हम पूरी तरह प्रकृति से घिरे हुए थे. लेकिन जैसे-जैसे मैं बड़ी होती गई तो मैंने हरियाली को ठोस जंगलों में  बदलते देखा और तब मुझे महसूस हुआ कि मेरी छोटी बहन प्रकृति की सुंदरता का आनंद नहीं ले पाएगी जैसा मैंने बचपन में लिया था. यह वो पल था जब मैं प्रकृति के बारे में अधिक जागरूक हो गई और मैंने अपने आसपास के पर्यावरण की रक्षा करने के तरीकों को तलाश करना शुरू कर दिया." 

प्रकृति और पर्यावरण को सुरक्षित रखने की इच्छा और कोशिशों ने आज 17 वर्षीय खुशी को संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम -Tunza Eco-Generation का क्षेत्रीय राजदूत बना दिया है. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

इस सम्मानजनक नियुक्ति के बाद ख़ुशी को पर्यावरण की सुरक्षा के बारे में जागरूकता फैलाने और पर्यावरण संरक्षण में भारत के योगदान पर चर्चा करने का मौका मिलेगा. उनको दुनिया भर के अन्य राजदूतों के साथ इस विषय पर चर्चा करने का अवसर भी मिलेगा. 

खुशी की इस उपलब्धि पर उनकी मां बिनिता ने कहा, "हमारे घर के पास काफी हरियाली थी, जहां पक्षियों और जानवरों की कई प्रजातियां आती थीं. ख़ुशी हमेशा अपनी छोटी बहन के साथ बालकनी से उन्हें देखने जाती थी. मैंने हमेशा अपने बच्चों को पर्यावरण के प्रति जागरूक रहने और पर्यावरण को स्वच्छ रखने की सीख दी है. मुझे बहुत गर्व है कि ख़ुशी को इतनी बड़ी ज़िम्मेदारी दी गई है."