Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

Republic Day 2020: क्या आप जानते हैं कि गणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस के बीच क्या है अंतर?

Republic Day: 26 जनवरी (26 January) को जहां भारतीय संविधान लागू किया था वहीं, 15 अगस्त को भारत को ब्रिटेन से आजादी मिली थी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Republic Day 2020: क्या आप जानते हैं कि गणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस के बीच क्या है अंतर?

Republic Day: 26 जनवरी को भारतीय संविधान लागू किया गया था.

खास बातें

  1. 26 जनवरी 1950 को संविधान लागू किया गया था
  2. गणतंत्र दिवस पर राजपथ पर परेड का आयोजन किया जाता है
  3. राष्ट्रपति परेड की सलामी लेते हैं
नई दिल्ली:

Happy Republic Day 2020: हर साल की तरह इस साल भी देश 26 जनवरी (26 January) को अपना गणतंत्र दिवस (Republic Day) धूमधाम से मना रहा है. आज राजपथ पर शानदार परेड के साथ-साथ देशवासी अनेक सांस्कृतिक कार्यक्रमों से 71वें गणतंत्र दिवस (71th Republic Day) की खुशियों को मनाएंगे. लेकिन बहुत से लोग स्वतंत्रता दिवस (Independence Day) और गणतंत्र दिवस को लेकर कंफ्यूज रहते हैं. इसी कंफ्यूजन को दूर करने के लिए दोनों राष्ट्रीय पर्वों के बीच का फर्क सिलसिलेवार तरीके से बताया जा रहा है:

1. हर साल 15 अगस्त को भारत में स्वतंत्रता दिवस के तौर पर मनाया जाता है. 15 अगस्त को भारत को ब्रिटेन से आजादी मिली थी. वहीं 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के तौर पर मनाया जाता है और इस दिन भारतीय संविधान लागू किया गया था. 26 जनवरी 1950 से भारत एक स्वतंत्र गणराज्य बन गया. 

26 January 2020: जानिए गणतंत्र दिवस का इतिहास, महत्‍व और रोचक तथ्‍य


2. 15 अगस्त को ब्रिटेन की संसद ने भारतीय स्वंत्रता अधिनियम 1947 पारित किया और ब्रिटिश भारत को भारत और पाकिस्तान में विभाजित कर दिया. साथ ही भारत में कानून बनाने का अधिकार भारत की संविधान सभा को सौंप दिए गए थे. हालांकि 26 जनवरी 1950 से पहले भारत संवैधानिक तौर पर गणराज्य नहीं बल्कि राजतंत्र ही था.

3. 26 जनवरी 1950 को संविधान लागू किया गया इससे पहले गर्वनमेंट ऑफ इंडिया एक्ट 1935 के तहत भारत में शासन चलाया जाता था.

4. 15 अगस्त 1947 को देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने भारतीय राष्ट्रीय ध्वज को लाल किले पर फहराया था. इसी के बाद से हर साल 15 अगस्त को देश के प्रधानमंत्री लाल किले पर तिरंगा फहराते हैं. वहीं गणतंत्र दिवस के मौक पर राजपथ पर परेड आयोजित की जाती है और इस परेड की सलामी देश के राष्ट्रपति लेते हैं. 

Republic Day Speech: गणतंत्र दिवस पर दें ये शानदार भाषण, तालियों से गूंज उठेगी सभा

5. भारत की संविधान सभा अपने पांचवें सत्र के लिए 14 अगस्त 1947  की रात 11 बजे एकजुट हुई थी संसद के केंद्रीय कक्ष में एकजुट हुई थी. इस सत्र की अध्यक्षता डॉ राजेंद्र प्रसाद ने की थी. इसी सत्र में जवाहरलाल नेहरू ने भारत की आजादी को लेकर 'ट्रिस्ट विद डेस्टनी' भाषण दिया था.

6. 1950 से ही भारत दूसरे देश के राष्ट्रप्रमुखों को रिपब्लिक डे परेड में मुख्य अतिथि के तौर पर आमंतित्र करता आ रहा है. 15 अगस्त वाले दिन किसी दूसरे देश के राष्ट्रप्रमुख को नहीं बुलाया जाता है.

7. साल 1955 से राजपथ पर गणतंत्र दिवस की परेड होती आ रही है. जबकि 15 अगस्त का जश्न लाल किले पर मनाया जाता है.

टिप्पणियां

8. गणतंत्र दिवस की संध्या पर राष्ट्रपति पद्म पुरस्कार देते हैं. जबकि स्वतंत्रता दिवस वाले दिन पुरस्कार वितरण नहीं किया जाता है.

9. गणतंत्र दिवस समारोह का समापन 'बीटिंग रिट्रीट' सेरेमनी से 29 जनवरी को किया जाता है. जबिक 15 अगस्त के जश्न का समापन उसी दिन ही किया जाता है.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें. Education News की ज्यादा जानकारी के लिए Hindi News App डाउनलोड करें और हमें Google समाचार पर फॉलो करें


 Share
(यह भी पढ़ें)... Delhi Violence: दिल्ली में हुई हिंसा को लेकर रजनीकांत ने केंद्र सरकार की आलोचना की, कहा- निश्चित तौर पर यह...'

Advertisement