Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

Hindi Diwas 2019: जानिए क्यों हिंदी को नहीं मिल पाया भारत की राष्ट्रीय भाषा का दर्जा

हिंदी दिवस (Hindi Diwas) हर साल 14 सितंबर को मनाया जाता है. हिंदी हमारी राजभाषा है. हिंदी सिर्फ भारत ही नहीं बल्कि दुनिया के कई देशों में बोली जाती है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Hindi Diwas 2019: जानिए क्यों हिंदी को नहीं मिल पाया भारत की राष्ट्रीय भाषा का दर्जा

गांधी जी ने हिंदी साहित्‍य सम्‍मेलन में हिंदी को राष्‍ट्र भाषा बनाने के लिए कहा था.

नई दिल्ली:

Hindi Diwas 2019: 14 सितंबर को देश भर में हिंदी दिवस मनाया जाता है. भारत विभिन्‍न्‍ताओं वाला देश है. यहां हर राज्‍य की अपनी अलग सांस्‍कृतिक, राजनीतिक और ऐतिहासिक पहचान है. यही नहीं सभी जगह की बोली भी अलग है. इसके बावजूद हिंदी (Hindi) भारत में सर्वाधिक बोली जाने वाली भाषा है. यही वजह है कि राष्‍ट्रपिता महात्‍मा गांधी ने हिंदी  को जनमानस की भाषा कहा था. उन्‍होंने 1918 में आयोजित हिंदी साहित्‍य सम्‍मेलन में हिंदी को राष्‍ट्र भाषा (National Language) बनाने के लिए कहा था. 14 सितंबर 1949 को संविधान सभा ने एक मत से यह निर्णय लिया कि हिंदी ही भारत की राजभाषा होगी. इस निर्णय के बाद हिंदी को हर क्षेत्र में प्रसारित करने के लिए 1953 से पूरे भारत में 14 सितंबर को हर साल हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाने लगा. हिंदी भारत की राजभाषा जरूर बनी लेकिन राष्ट्रीय भाषा बनते बनते रह गई. 1946 से लेकर 1949 तक जब भारतीय संविधान का मसौदा तैयार किया जा रहा था, उस दौरान भारत और भारत से जुड़े तमाम मुद्दों को लेकर संविधान सभा में लंबी लंबी बहस और चर्चा होती थी. इसका मकसद था कि जब संविधान को अमली जामा पहनाया जाए तो किसी भी वर्ग को यह न लगे कि उससे संबंधित मुद्दे की अनदेखी हुई है. वैसे तो लगभग सभी विषय बहस-मुबाहिस से होकर गुजरते थे लेकिन सबसे विवादित विषय रहा भाषा – संविधान को किस भाषा में लिखा जाए, सदन में कौन सी भाषा को अपनाया जाए, किस भाषा को ‘राष्ट्रीय भाषा' का दर्जा दिया जाए, इसे लेकर किसी एक राय पर पहुंचना लगभग नामुमकिन सा रहा.

हिंदी दिवस पर अपने WhatsApp और Facebook पर लगाइए ये Status


पहले पहल महात्मा गांधी और जवाहरलाल नेहरू समेत कई सदस्य हिन्दुस्तानी (हिंदी और उर्दू का मिश्रण) भाषा के पक्ष में दिखे. 1937 में ही नेहरू ने अपनी राय रखते हुए कहा था कि भारत भर में आधिकारिक रूप से संपर्क स्थापित करने के लिए एक भाषा का होना जरूरी है और हिन्दुस्तानी से अच्छा क्या हो सकता है. वहीं गांधी ने भी कहा था कि अंग्रेजी से बेहतर होगा कि हिन्दुस्तानी को भारत की राष्टीय भाषा बनाया जाए क्योंकि यह हिंदु और मुसलमान, उत्तर और दक्षिण को जोड़ती है. लेकिन विभाजन ने कई सदस्यों के मन में इतनी चिढ़ और गुस्सा भर दिया कि हिन्दुस्तानी की मांग पीछे होती चली गई और शुद्ध हिंदी (संस्कृतनिष्ठ) के पक्षधर भारी पड़ते नज़र आए. इधर दक्षिण भारतीय सदस्य तो हिन्दुस्तानी और हिंदी दोनों के ही खिलाफ नज़र आए. जब कभी कोई सदस्य अपनी बात हिंदी या हिन्दुस्तानी में बोलता था तो कोई दक्षिण भारतीय सदस्य इसके अनुवाद की मांग करने लगता था.

Hindi Diwas 2019: इन मैसेजेस से दें हिंदी दिवस की शुभकामनाएं

इतिहासविद् रामचंद्र गुहा की किताब ‘इंडिया ऑफ्टर गांधी' में इस विवादित विषय पर रोशनी डाली गई है. एक सदस्य आरवी धुलेकर का जिक्र करते हुए लिखा गया है – जब धुलेकर ने हिन्दुस्तानी में अपनी बात कहनी शुरू की तो अध्यक्ष ने उन्हें टोकते हुए कहा कि सभा में मौजूद कई लोगों को हिंदी नहीं आती है और इसलिए वह उनकी बात समझ नहीं पा रहे हैं. इस पर धुलेकर ने तिलमिलाते हुए कहा कि 'जिन्हें हिन्दुस्तानी नहीं आती, उन्हें इस देश में रहने का हक नहीं है.' उधर मद्रास के प्रतिनिधित्व टीटी कृष्णामचारी ने बड़ी ही साफगोई से कहा ‘मुझे अंग्रेजी पसंद नहीं क्योंकि इसकी वजह से मुझे जबरदस्ती शेक्सपीयर और मिल्टन को सीखना पड़ा जिनमें मुझे तनिक भी रुचि नहीं थी. अब अगर हमें हिंदी सीखने के लिए मजबूर किया जाएगा तो इस उम्र में यह करना मेरे लिए मुश्किल होगा.

Hindi Diwas 2019: क्‍यों मनाया जाता है हिंदी दिवस, जानिए इसका इतिहास और 8 दिलचस्प बातें

साथ ही इस तरह की असहिष्णुता हमारे अंदर इस बात का डर भी पैदा कर देगी कि एक मजबूत केंद्र सरकार का मतलब उन लोगों को गुलाम बनाना भी है जो केंद्र की भाषा नहीं बोल सकते. सर...मैं दक्षिण भारतीयों की ओर से यह चेतावनी देना चाहूंगा कि पहले से ही दक्षिण भारत में ऐसे तत्व हैं जो वहां बंटवारा चाहतें है, ऊपर से मेरे यूपी के दोस्त ‘हिंदी साम्राज्यवाद' फैलाकर हमारी समस्या को बढ़ाने का ही काम करेंगे. तो मेरे यूपी के दोस्त यह तय कर लें कि उन्हें ‘अखंड भारत' चाहिए या ‘हिंदी-भारत'...' कड़ी बहस के बाद संविधान सभा इस समझौते पर पहुंची कि ‘भारत की राजभाषा हिंदी (देवनागरी लिपि) होगी लेकिन संविधान लागू होने के 15 साल तक यानि 1965 तक सभी सरकारी कामकाज (अदालत और तमाम अन्य सेवाएं) अंग्रेजी में ही किया जाएगा.'

हालांकि संविधान सभा में लिया गया यह फैसला 15 साल बाद कुछ और ही रंग लाया. 1963 में नेहरू ने राजभाषा अधिनियम को दिशा देने का काम किया जिसके तहत उन्होंने इस बात की तरफ इशारा किया कि 1965 से आधिकारिक रूप से सभी तरह का संचार हिंदी  में किया जाएगा और अंग्रेजी को एक सहायक भाषा के रूप में इस्तेमाल किया जा ‘सकता' है. नेहरू के इस संकेत ने हिंदी विरोधियों के कान खड़े कर दिए. उन्हें इस 'सकता' है में इस शंका का संकेत मिला कि हो सकता है कि केंद्र के द्वारा गैर हिंदी भाषियों पर हिंदी 'थोपी' जाए, अंग्रेजी का सफाया हो जाए और यही नहीं हिंदी को राजभाषा के साथ साथ राष्ट्रभाषा का दर्जा भी दे दिया जाए. 26 जनवरी 1965 को तत्कालीन प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री ने हिंदी को राजभाषा घोषित करने का फैसला कर लिया था लेकिन उससे पहले ही दक्षिण भारतीय राजनीतिक पार्टी डीएमके ने इस फैसले के खिलाफ तमिलनाडु में विरोध प्रदर्शन की घोषणा कर दी.

मदुरै से लेकर कोयमबटूर और मद्रास से लेकर छोटे छोटे गांव में हिंदी की किताबों को जलाया गया, यहां तक कि कुछ मामले ऐसे भी आए जिसमें तमिल भाषा के लिए लोगों ने जान तक दे दी. इतने विरोध के बाद जाहिर है कांग्रेस अपने फैसले पर नरम पड़ती नज़र आई और शास्त्री ने ऑल इंडिया रेडियो पर राष्ट्र के नाम संदेश में साफ किया कि अंग्रेजी का इस्तेमाल तब तक किया जा सकता है जब तक जनता चाहे. साथ ही उन्होंने गैर हिंदी भाषियों के डर को दूर करते हुए आश्वासन दिया कि हर राज्य यह खुद तय कर सकता है कि वह किस भाषा में सरकारी कामकाज या संचार करना चाहता है, वह क्षेत्रीय भाषा भी हो सकती है या अंग्रेजी भी. साथ ही केंद्रीय स्तर पर हिंदी के साथ साथ अंग्रेजी भी प्रमुख तौर पर कामकाज और संचार की भाषा होगी. इतने कड़े विरोध के बाद हिंदी को भारत की राजभाषा का दर्जा तो मिल गया लेकिन 'राष्ट्रीय भाषा' का दर्जा मिलते मिलते रह गया.

हिन्दी में गुनना-बुनना मुमकिन नहीं रह गया, सो हश्र तो यही होना था...

टिप्पणियां

यह बात अलग है कि कई स्कूली किताबों में हिंदी को राष्ट्रीय भाषा बता दिया जाता है जो कि तथ्यात्मक रूप से गलत है क्योंकि भारत की कोई राष्ट्रीय भाषा है ही नहीं. भारतीय संविधान में किसी को भी राष्ट्रीय भाषा का दर्जा प्राप्त नहीं है. राजभाषा विभाग द्वारा यह साफ किया गया है कि हिंदी के साथ ही साथ अंग्रेजी को भी संसद और केंद्र में कामकाज के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है. इसके अलावा राज्यों को विधायिका के तहत अपनी भाषा खुद तय करने का अधिकार है जिसके फलस्वरूप भारत में 22 भाषाओं को आधिकारिक दर्जा मिला हुआ है जिसमें अंग्रेजी और हिंदी भी शामिल है. अलग अलग मौकों पर अदालत द्वारा यह साफ किया गया है कि इन सभी भाषाओं को बराबरी का दर्जा हासिल है और कोई भी भाषा किसी से भी कम या ज्यादा नहीं है.

गुहा की लिखी किताब में एक और दिलचस्प किस्सा है. रेडियो पर लाल बहादुर शास्त्री की इस अहम घोषणा के बाद एक बार फिर जब यह मामला संसद में उठा तो एंग्लो भारतीय सदस्य फ्रैंक एंथनी ने अंग्रेजी को स्वीकार नहीं करने की हिंदी भाषियों की 'असहिष्णुता' पर चिंता जताई. इसके जवाब में जे बी कृपलानी ने मजाकिया अंदाज में कहा कि फ्रैंक को भारत में अपनी भाषा (अंग्रेजी) के खत्म होने की चिंता नहीं करनी चाहिए क्योंकि ‘अब तो हमारे बच्चे भी अम्मा-अप्पा नहीं मम्मी पापा बोलने लगे हैं. यहां तक की हम अपने कुत्तों से भी अंग्रेजी में ही बात करते हैं.' अपने पैर जमा चुकी अंग्रेजी पर कृपलानी ने तंज कसते हुए एंथनी को ‘विश्वास' दिलाया कि इंग्लैंड से अंग्रेजी गायब हो सकती है लेकिन भारत से कभी नहीं...



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... सपना चौधरी ने हरियाणवी सॉन्ग पर डांस से मचाया गदर, देसी क्वीन का Video हुआ वायरल

Advertisement