NDTV Khabar

Hindi Diwas Speech: हिंदी दिवस पर दें ये भाषण

इस हिंदी दिवस अगर आप भाषण (Hindi Diwas Speech) देने वाले हैं तो आप इस तरह का भाषण दे सकते हैं....

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Hindi Diwas Speech: हिंदी दिवस पर दें ये भाषण

Hindi Diwas: हिंदी दिवस हर साल 14 सितंबर को मनाया जाता है.

नई दिल्ली:

हिंदी दिवस (Hindi Diwas) 14 सितंबर को मनाया जाता है. देश में 14 सितंबर (14 September) 1953 को पहली बार हिंदी दिवस मनाया गया और उसके बाद से ही हर साल 14 सितंबर को पूरे देश में हिंदी दिवस (Hindi Diwas) बड़े ही उत्साह के साथ मनाया जाने लगा. हिंदी दिवस के मौके पर कई कार्यक्रमों का आयोजन होता है. स्‍कूलों, कॉलेजों और  शैक्षणिक संस्‍थानों में निबंध प्रतिया,  वाद-विवाद प्रतियोगता, कविता पाठ, नाटक, और प्रदर्शनियों का आयोजन किया जाता है. इसके अलावा सरकारी दफ्तरों में हिंदी पखवाड़े का आयोजन होता है. यानी कि 14 सितंबर से लेकर अगले 15 दिनों तक सरकारी दफ्तों में विभिन्‍न प्रतियोगिताएं आयोजित की जाती हैं. कई स्टूडेंट्स को भाषण देने का मौका भी मिलता है.  इस हिंदी दिवस अगर आप भाषण (Hindi Diwas Speech) देने वाले हैं तो आप इस तरह का भाषण दे सकते हैं:

Hindi Diwas 2019: इन मैसेजेस से दें हिंदी दिवस की शुभकामनाएं

हिंदी दिवस पर भाषण (Hindi Diwas Speech)
 


आदरणीय मुख्य अतिथि, शिक्षकों और मेरे मित्रों को नमस्कार

मैं हिंदी दिवस के महत्व पर कुछ शब्द कहने के उपस्थित हुआ/हुई हूं. हिंदी दिवस हर साल 14 सितंबर को देश भर में बड़े ही उत्साह के साथ मनाया जाता है. हिंदी ने हमें दुनियाभर में पहचान दिलाई है. भारत ही नहीं बल्कि दुनिया भर के कई देशों में हिंदी बोली जाती है. हिंदी विश्व की प्राचीन, समृद्ध और सरल भाषा है. राष्‍ट्रपिता महात्‍मा गांधी ने हिंदी को जनमानस की भाषा कहा था. उन्‍होंने 1918 में आयोजित हिंदी साहित्‍य सम्‍मेलन में हिंदी को राष्‍ट्र भाषा बनाने के लिए कहा था. भारत सालों तक अंग्रेजों का गुलाम  रहा. इसी वजह से उस गुलामी का असर लंबे समय तक देखने को मिला. यहां तक कि इसका प्रभाव भाषा में भी पड़ा. वैसे तो हिंदी दुनिया की तीसरी ऐसी भाषा है जिसे सबसे ज्‍यादा लोग बोलते हैं लेकिन इसके बावजूद हिंदी को अपने ही देश में हीन भावना से देखा जाता है. आमतौर पर हिंदी बोलने वाले को पिछड़ा और अंग्रेजी में अपनी बात कहने वाले को आधुनिक कहा जाता है. इसे हिंदी का दुर्भाग्‍य ही कहा जाएगा कि इतनी समृद्ध भाषा कोष होने के बावजूद आज हिंदी लिखते और बोलते वक्‍त ज्‍यादातर अंग्रेजी भाषा के शब्‍दों का इस्‍तेमाल किया जाता है. और तो और हिंदी के कई शब्‍द चलन से ही हट गए. ऐसे में हिंदी दिवस को मनाना जरूरी है ताकि लोगों को यह याद रहे कि हिंदी उनकी राजभाषा है और उसका सम्‍मन व प्रचार-प्रसार करना उनका कर्तव्‍य है. हिंदी दिवस मनाने के पीछे मंशा यही है कि लोगों को एहसास दिलाया जा सके कि जब तक वे इसका इस्‍तेमाल नहीं करेंगे तब तक इस भाषा का विकास नहीं होगा. 

अन्य खबरें

हिंदी दिवस पर अपने WhatsApp और Facebook पर लगाइए ये Status
Hindi Diwas 2019: क्‍यों मनाया जाता है हिंदी दिवस, जानिए इसका इतिहास और 8 दिलचस्प बातें
हिन्दी में गुनना-बुनना मुमकिन नहीं रह गया, सो हश्र तो यही होना था...

टिप्पणियां


 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement