कारगिल विजय दिवस पर छात्रों के लिए आयोजित की जाएगी क्विज प्रतियोगिता, जानिए डिटेल

मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने 21वें कारगिल विजय दिवस (21st Kargil Vijay Diwas) के अवसर पर राष्ट्रीय स्तर की क्विज प्रतियोगिता (Quiz Competition) का आयोजन किया है.

कारगिल विजय दिवस पर छात्रों के लिए आयोजित की जाएगी क्विज प्रतियोगिता, जानिए डिटेल

नई दिल्ली:

मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने 21वें कारगिल विजय दिवस (21st Kargil Vijay Diwas) के अवसर पर राष्ट्रीय स्तर की क्विज प्रतियोगिता (Quiz Competition) का आयोजन किया है ताकि छात्रों में देशभक्ति की भावन को बढ़ावा दिया जा सके. मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने ट्वीट किया, ‘‘ छात्रों, आप कारगिल युद्ध के बारे में कितना जानते हैं? इस कारगिल विजय दिवस पर हमने अपने योद्धाओं को समर्पित राष्ट्रीय स्तर की क्विज प्रतियोगिता का आयोजन किया है.'' 

उन्होंने कहा कि इस प्रतियोगिता में भाग लेने की अंतिम तिथित 25 जुलाई है. मंत्री ने कहा कि प्रत्येक प्रतियोगी को एक डिजिटल प्रमाणपत्र दिया जायेगा. ऐसे प्रतियोगी जो 80 प्रतिशत से अधिक अंक हासिल करेंगे, उन्हें यूजीसी के सचिव, एनसीईआरटी के निदेशक और माईजीओवी (MyGov) के सीईओ द्वारा हस्ताक्षरित मेधा प्रमाणपत्र दिया जायेगा. मंत्रालय के अनुसार, भारत 26 जुलाई 2020 को 21वां कारगिल विजय दिवस (Kargil Vijay Diwas) मना रहा है, जिसमें हमारे योद्धाओं के पराक्रम को याद किया जाता है.


 छात्रों में देशभक्ति की भावना को बढ़ावा देने के लिये भारत सरकार ने इस विषय पर राष्ट्रीय स्तर की क्विज प्रतियोगिता का आयोजन किया है. इस क्विज प्रतियोगिता में प्रश्न पूरी तरह से कारगिल संषर्घ के बारे में जानकारी एवं समझ का मूल्यांकन करने पर आधारित है. यह प्रतियोगिता वस्तुनिष्ठ विकल्पों पर आधारित है. इसमें 60 सेकेंड में 6 प्रश्नों के उत्तर देने हैं . प्रतियोगी को केवल एक बार क्विज में हिस्सा लेने की अनुमति होगी. इसमें गलत उत्तर देले पर कोई नेगेटिव अंक नहीं दिया जायेगा.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


 इस प्रतियोगिता में भाग लेने के लिये छात्र माईजीओवीडाटइन पर पंजीकरण करा सकते हैं. इस क्विज प्रतियोगिता के संबंध में एनसीईआरटी का फैसला अंतिम होगा. गौरतलब है कि 26 जुलाई 1999 के दिन भारतीय सेना ने कारगिल युद्ध के दौरान चलाए गए 'ऑपरेशन विजय' को सफलतापूर्वक अंजाम देकर भारत भूमि को पाकिस्तानी घुसपैठियों के चंगुल से मुक्त कराया था. 
 



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)