NDTV Khabar

CISCE ICSE, ISC Results 2017: आईसीएसई, आईएससी के परिणाम घोषित, लड़कियों ने बाजी मारी

क्षेत्रवार प्रदर्शन की बात करें तो 12वीं कक्षा में दक्षिण क्षेत्र का प्रदर्शन सबसे अच्छा रहा है. वहीं कक्षा दस में दक्षिण और पश्चिम क्षेत्रों के परिणाम सबसे अच्छे रहे हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
CISCE ICSE, ISC Results 2017: आईसीएसई, आईएससी के परिणाम घोषित, लड़कियों ने बाजी मारी
काउंसिल फॉर द इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट एग्जामिनेशन (सीआईएससीई) द्वारा घोषित दसवीं और 12वीं कक्षा के परिणामों में भी लड़कियों का जलवा बरकरार है. बारहवीं कक्षा में 96.47 प्रतिशत और दसवीं कक्षा में 98.53 फीसदी छात्र उत्तीर्ण हुए हैं. कोलकाता की अनन्या मैती 99.5 प्रतिशत अंकों के साथ 12वीं कक्षा में देशभर में शीर्ष पर रही हैं. वहीं पुणे की मुस्कान अब्दुल्ला पठान और बेंगलुरू के अश्विन राव दसवीं कक्षा में संयुक्त रूप से टॉपर बने हैं.

परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी गैरी अराथून ने बताया कि आईसीएसई (दसवीं कक्षा) और आईएससी (कक्षा 12वीं) के 2017 के परिणाम में उतीर्ण होने वाले छात्रों की संख्या में पिछले वर्ष की तुलना में मामूली वृद्धि हुई है. देशभर के 988 स्कूलों के 73,633 छात्रों ने 12वीं कक्षा की परीक्षा दी थी. इसमें 97.73 लड़कियां और 95.39 फीसदी लड़के पास हुए हैं.

ये है सेकेंड और थर्ड टॉपर
12वीं में लखनउ की आयुषी श्रीवास्तव, कोलकाता के देवेश लाखोटिया, मुंबई की रिषिका धारीवाल और गुरूग्राम के के श्रीकांत 99.25 प्रतिशत अंकों के साथ संयुक्त रूप से दूसरे स्थान पर रहे. अनंत कोठारी (कोलकाता(, दीप्ति एस (देहरादून), सौगत चौधरी (कोलकाता), वेदांशी गुप्ता और युक्ता मीणा (लखनउ) 99 प्रतिशत अंकों के साथ संयुक्त रूप से तीसरे स्थान पर रहे.

यह भी पढ़ें: CISCE ICSE, ISC Results 2017: बोर्ड ने जारी किए 10वीं-12वीं के नतीजे, cisce.org पर करें चेक

10वीं के टॉपर
मुंबई के फरजान होशी भरूचा और परगना की देवाश्री पाल ने 99.2 प्रतिशत अंकों के साथ संयुक्त दूसरा स्थान हासिल किया. केरल की मीनाक्षी एस और पुणे के राघव सिंघल 99 फीसदी अंकों के साथ संयुक्त रूप से तीसरे स्थान पर रहे.

दक्षिण क्षेत्र का प्रदर्शन रहा अच्‍छा
क्षेत्रवार प्रदर्शन की बात करें तो 12वीं कक्षा में दक्षिण क्षेत्र का प्रदर्शन सबसे अच्छा रहा है. वहीं कक्षा दस में दक्षिण और पश्चिम क्षेत्रों के परिणाम सबसे अच्छे रहे हैं. पहली बार बोर्ड ने डिजिलॉकर सुविधा उपलब्ध कराया है जिसके जरिये छात्र डिजिटल रूप से हस्ताक्षरित अंकपत्र और प्रमाणपत्र प्राप्त करेंगे. (एजेंसियों से इनपुट)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement