Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

नैतिक कॉर्पोरेट प्रशासन के सिद्धांतों पर चर्चा के साथ IIFT ने मनाया 56वां स्थापना दिवस

प्रख्यात गांधीवादियों को संस्थान के 56 वें स्थापना दिवस पर महात्मा गांधीवाद की 150वीं जयंती मनाने के लिए प्रतिष्ठित बी-स्कूल में अपने विचार रखने के लिए आमंत्रित किया गया था.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
नैतिक कॉर्पोरेट प्रशासन के सिद्धांतों पर चर्चा के साथ IIFT ने मनाया 56वां स्थापना दिवस

IIFT ने मनाया 56वां स्थापना दिवस...

नई दिल्ली:

श्रीमती शोभना राधाकृष्ण, नैतिक कॉर्पोरेट प्रशासन के लिए गांधीवादी मंच की मुख्य कार्यकारिणी और डॉ रवि चोपड़ा, गांधीवादी दृष्टि और मूल्यों के केंद्र के संस्थापक सचिव ने नैतिक कॉर्पोरेट प्रशासन के सिद्धांतों पर भारतीय विदेश व्यापार संस्थान (IIFT) में छात्रों और शिक्षकों को संबोधित किया. प्रख्यात गांधीवादियों को संस्थान के 56 वें स्थापना दिवस पर महात्मा गांधीवाद की 150वीं जयंती मनाने के लिए प्रतिष्ठित बी-स्कूल में अपने विचार रखने के लिए आमंत्रित किया गया था. महात्मा गांधी के नैतिक नेतृत्व और शासन में इसकी प्रासंगिकता पर बोलते हुए श्रीमती राधाकृष्ण ने कहा कि गांधी जी तीन गुणों पर खासा ध्यान देते थे, सत्याग्रह, अकारदृष्टि और श्रमदान. इन्ही गुणों की छाप उन्हें आईआईएफटी में दिखती है. इसके साथ ही प्रोफेसर पंत ने आईआईएफटी कैंपस में मूल्यांकन और विकास केंद्र का उद्घाटन भी किया.

स्थापना दिवस कार्यक्रम में डॉ विजया कट्टी, डीन एडमिनिस्ट्रेशन (एकेडमिक) द्वारा 'ए बेसिक गाइड फॉर इंटरनेशनल बिजनेस' 'नामक एक नई पुस्तक और  आईआईएफटी की वार्षिक हिंदी पत्रिका 'यज्ञ' जारी की गई. कार्यक्रम के बारे में बोलते हुए, आईआईएफटी के निदेशक, प्रोफेसर मनोज पंत ने कहा कि 56 वाँ स्थापना दिवस आईआईएफटी के लिए एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है जो पिछले कुछ वर्षों में भारत का सर्वश्रेष्ठ बिज़नेस संस्थान बन गया है. चूंकि आईआईएफटी की स्थापना नैतिकता, मूल्यों और पारदर्शिता के गांधीवादी सिद्धांतों पर की गई थी, इसलिए महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती पर इन प्रख्यात वक्ताओं का स्थापना दिवस को और ख़ास बनाता है.    


आईआईएफटी (IIFT) के छात्रों को मिला 95 लाख रुपये का सालाना पैकेज

टिप्पणियां

कार्यक्रम की शुरुआत प्रोफेसर मनोज पंत, निदेशक, आईआईएफटी द्वारा दीप प्रज्ज्वलन के साथ हुई. इसके बाद डॉ पीके गुप्ता, रजिस्ट्रार, आईआईएफटी और प्रोफेसर पंत ने स्वागत भाषण दिया. इसके बाद 'गांधीजी के प्रिया भजन' नामक भजन प्रस्तुत किया गया. पूरे स्टाफ, संकाय सदस्यों और छात्रों ने अपनी उपस्थिति के साथ समारोह की शोभा बढ़ाई और स्थापना के बाद से संस्थान की शुरुआत और इसके महत्वपूर्ण विकास को दर्शाते हुए ये विशेष दिन मनाया.

IIFT के बारे में
IIFT की स्थापना 1963 में भारत सरकार द्वारा एक स्वायत्त संगठन के रूप में की गई थी, जो देश के विदेशी व्यापार प्रबंधन को पेशेवर बनाने में मदद करता है. इसके साथ मानव संसाधनों को विकसित करने, डेटा का विश्लेषण और प्रसार और अनुसंधान आयोजित करके निर्यात को बढ़ाता है. इसे NAAC द्वारा 'ए' ग्रेड डीम्ड विश्वविद्यालय का दर्जा दिया गया है. आईआईएफटी  ने भारतीय अर्थव्यवस्था के अंतर्राष्ट्रीयकरण के लिए नए विचारों, अवधारणाओं और कौशल के उत्प्रेरक के रूप में खुद के लिए एक जगह बनाई है. यह कॉर्पोरेट क्षेत्र, सरकार और छात्र समुदाय दोनों के लिए अंतरराष्ट्रीय व्यापार के क्षेत्रों में प्रशिक्षण और अनुसंधान-आधारित परामर्श के एक प्राथमिक प्रदाता के रूप में काम करता है.

IIFT के छात्रों की लगी लॉटरी, कैंपस प्लेसमेंट के लिए उमड़ी बड़ी-बड़ी कंपनियां

सिद्ध क्षमता वाली एक संस्था,  आईआईएफटी  लगातार प्रायोजित और गैर-प्रायोजित अनुसंधान और परामर्शी असाइनमेंट दोनों के माध्यम से सरकार, व्यापार और उद्योग की आवश्यकताओं को पूरा करने की दृष्टि से अपने ज्ञान के आधार को उन्नत करने की दिशा में काम करती है. संस्थान के दीर्घावधि कार्यक्रमों का पोर्टफोलियो विविध है, जो आकांक्षी अंतर्राष्ट्रीय व्यापार अधिकारियों और मध्य कैरियर पेशेवरों की आवश्यकताओं को पूरा करता है.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... आरती सिंह पर हुआ बिग बॉस का गहरा असर, भाई कृष्णा अभिषेक ने Video शेयर कर खोला राज

Advertisement