NDTV Khabar

20 अक्टूबर को IIM काशीपुर में लगेगा उत्तराखंड का सबसे बड़ा स्टार्टअप मेला

IIM काशीपुर 20 अक्टूबर को उत्तराखंड के सबसे बड़े स्टार्टअप मेले का आयोजन करने वाला है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
20 अक्टूबर को IIM काशीपुर में लगेगा उत्तराखंड का सबसे बड़ा स्टार्टअप मेला

IIM काशीपुर 

नई दिल्ली:

भारत दुनिया में तीसरा सबसे बड़ा 'स्टार्टअप' पारिस्थितिकी तंत्र है और यह स्टार्टअप की संख्या के मामले में दुनिया का सबसे बड़ा स्टार्टअप हब बनने के स्पष्ट लक्ष्य पर नजर रखता है. उसके लिए, भारत सरकार उद्यमिता की सभी शक्तियों को एक साथ लाने में कोई कसर नहीं छोड़ रही है. इस संदर्भ में, देश के प्रमुख प्रबंधन संस्थानों में से एक भारतीय प्रबंधन संस्थान (IIM) काशीपुर, अपने परिसर में , 20 अक्टूबर, 2019 को उत्तराखंड राज्य में सबसे बड़ा 'स्टार्टअप इवेंट' आयोजित कर रहा है, जिसे "उत्तिष्ठा" कहा जाता है. इस साल उत्तिष्ठा 2019 एक ऐसा समारोह होने जा रहा है,जो उन सभी आकांशियों को एक मंच प्रदान करेगा जो जीवन में एक बार उद्यमी बनने के अपने सपने को वास्तविकता में बदलना चाहते हैं.

कृषि मंत्रालय, विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग, भारतीय स्टेट बैंक, PHD चैम्बर ऑफ कॉमर्स और कैरियर के सहयोग से स्टार्टअप उत्तराखंड, और उद्योग के अन्य प्रमुख खिलाड़ी, IIM काशीपुर और फाउंडेशन फॉर इनोवेशन एंड एंटरप्रेन्योरशिप डेवलपमेंट (FIED), अपने प्रयासों में स्टार्टअप की मदद करने के लिए IIM काशीपुर में होस्ट किया गया इनक्यूबेशन सेंटर, इस कार्यक्रम का आयोजन कर रहा है, जहां 100 से अधिक स्टार्टअप मालिक एकत्र हो रहे हैं. इस समारोह में स्टार्टअप्स 10,000 से अधिक लोगों की आम जनता को अपने अभिनव उत्पादों को दिखाने के लिए एकत्रित होने वाले है.


NCERT ने कहा- प्री स्कूल में बच्चों की लिखित या मौखिक परीक्षा नहीं होनी चाहिए

यह आयोजन स्टार्टअप निवेशकों, 10 से भी ज़्यादा वर्षों के स्टार्टअप अनुभव रखने वाले उद्यमियों, सरकारी अधिकारियों और स्टार्टअप इकोसिस्टम की अन्य सभी ताकतों, जो एक ही छत के नीचे ये सब करने का एक बहुत ही दुर्लभ अवसर प्रदान करेगा. IIM काशीपुर, सबसे विनम्रतापूर्वक, सभी को 2019 के लिए आमंत्रित करता है. स्टार्टअप प्रदर्शनी के अलावा, उत्तिष्ठा में 10 से अधिक कार्यक्रम शामिल हैं जैसे सफल उद्यमियों के टॉक शो, पैनल चर्चा, सांस्कृतिक गतिविधियां, और कैरियर के विकल्पों पर चर्चा करने के लिए वास्तविक उद्योग उद्यमियों से मिलने का मौका यानी करियर काउंसलिंग.

टिप्पणियां

एक औसत भारतीय माता-पिता के लिए, जब उसके बच्चे के लिए बहुत कम सीमित करियर विकल्प होते हैं, तो इस घटना से उद्यमिता की दुनिया और उस जादू की झलक पाने में मदद मिलेगी. अब भारत रितेश अग्रवाल (ओयो रूम्स के संस्थापक), पंकज चड्ढा (जोमाटो के संस्थापक), भावेश अग्रवाल (ओला कैब्स के संस्थापक), आदि के कद के उद्यमियों के अगले समूह की ओर देख रहा है. यह सभी के लिए, खासकर की किशोरों एवं युवा पीढ़ी के लिए एक सुनहरा अवसर होगा जो देश के इस नए स्टार्ट अप संस्कृति को आगे ले जा सकते है.

गुजरात में 9वीं की परीक्षा में पूछा गया ‘गांधी जी ने आत्महत्या कैसे की?', अधिकारियों ने शुरू की जांच



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement