प्रोफेसर संजय द्विवेदी बने IIMC के महानिदेशक, जानिए डिटेल

प्रोफेसर संजय द्विवेदी को बुधवार को भारतीय जनसंचार संस्थान (IIMC) का महानिदेशक नियुक्त किया गया है.

प्रोफेसर संजय द्विवेदी बने IIMC के महानिदेशक, जानिए डिटेल

प्रोफेसर संजय द्विवेदी बने IIMC के महानिदेशक

नई दिल्ली:

प्रोफेसर संजय द्विवेदी को बुधवार को भारतीय जनसंचार संस्थान (IIMC) का महानिदेशक नियुक्त किया गया. कार्मिक मंत्रालय के एक आदेश में यह जानकारी दी गई. द्विवेदी वर्तमान में भोपाल के माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार संस्थान के रजिस्ट्रार हैं. आदेश में कहा गया कि कैबिनेट की नियुक्ति समिति ने तीन साल की अवधि के लिए सीधी नियुक्ति के आधार पर आईआईएमसी (IIMC) के डीजी के तौर पर उनकी नियुक्ति को स्वीकृति दी. 

पत्रकारिता एवं जनसंचार के प्रतिष्ठित संस्थान के प्रमुख का पद करीब एक वर्ष से रिक्त था. अधिकारियों ने बताया कि पत्र सूचना कार्यालय (पीआईबी) के प्रधान महानिदेशक के एस धतवालिया एक जून, 2019 से आईआईएमसी के डीजी पद का अतिरिक्त प्रभार संभाल रहे थे.

उन्होंने बताया कि प्रोफेसर द्विवेदी पद के लिए चुने गए तीन उम्मीदवारों के पैनल में शीर्ष पर थे जिनके नाम कैबिनेट की नियुक्ति समिति को भेजे गए थे. सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के तहत स्वायत्त संस्थान, आईआईएमसी (IIMC) की स्थापना 1965 में हुई थी.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

IIMC क्या है?

भारतीय जनसंचार संस्थान (IIMC) केंद्र सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के अधीन आता है. इसका उद्घाटन 17 अगस्त 1965 को तत्कालीन सूचना एवं प्रसारण मंत्री इंदिरा गांधी ने किया था. शुरुआती दिनों में IIMC में सिर्फ इंफॉर्मेशन सर्विस ऑफिसर्स की ट्रेनिंग होती थी. इसके बाद 1969 में पीजी डिप्लोमा कोर्स इन जर्नलिज्म फॉर डेवलपिंग कंट्रीज शुरू किया गया. ये कोर्स खासकर अफ्रो-एशियन देशों के वर्किंग जर्नलिस्ट के लिए शुरू किया गया था. धीरे-धीरे IIMC का दायरा बढ़ता गया. आज IIMC से रेडियो एंड टीवी जर्नलिज्म, हिंदी जर्नलिज्म, इंग्लिश जर्नलिज्म, एडवरटाइजमेंट एंड पब्लिक रिलेशन, ओड़िया और उर्दू जर्नलिज्म में पीजी डिप्लोमा कोर्स कराया जाता है. IIMC मौजूदा वक्त में देश के टॉप जर्नलिज्म इंस्टीट्यूट्स में गिना जाता है.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)