Indian Army Day 2021: क्यों मनाया जाता है सेना दिवस? जानिए इस दिन का इतिहास

Indian Army Day 2021: हर साल 15 जनवरी को सेना दिवस मनाया जाता है. इस साल भारत का 73वां सेना दिवस मनाया जा रहा है.

Indian Army Day 2021: क्यों मनाया जाता है सेना दिवस? जानिए इस दिन का इतिहास

Indian Army Day 2021: 15 जनवरी को किसके सम्मान में मनाया जाता है सेना दिवस.

नई दिल्ली:

Indian Army Day 2021: आज सेना दिवस है. हर साल 15 जनवरी को सेना दिवस (Army Day 2021) मनाया जाता है. इस साल भारत का 73वां सेना दिवस मनाया जा रहा है. यह दिन सैन्य परेडों, सैन्य प्रदर्शनियों व अन्य कार्यक्रमों के साथ नई दिल्ली व सभी सेना मुख्यालयों में मनाया जाता है. सेना दिवस (Army Day 2021) के अवसर पर पूरा देश थल सेना की वीरता, अदम्य साहस, शौर्य और उसकी कुर्बानी को याद करता है.भारतीय सेना दिवस (Indian Army Day) हर साल 15 जनवरी को फील्ड मार्शल केएम करियप्पा (Field Marshal KM Cariappa) के सम्मान में मनाया जाता है. साल 1949 में आज ही के दिन भारत के अंतिम ब्रिटिश कमांडर-इन-चीफ जनरल फ्रांसिस बुचर  (General Sir Francis Butcher)  की जगह तत्कालीन लेफ्टिनेंट जनरल के एम करियप्पा ने ली थी. करियप्पा ने 1947 में भारत-पाक के बीच हुए युद्ध में भारतीय सेना की कमान संभाली थी. 

Newsbeep

Army Day 15 जनवरी को क्यों मनाया जाता है?
आजादी के बाद देश में कई प्रशासनिक समस्याएं पैदा होने लगी थीं और फिर स्थिति को नियंत्रित करने के लिए सेना को आगे आना पड़ा था. भारतीय सेना के अध्यक्ष तब भी ब्रिटिश मूल के ही हुआ करते थे. 15 जनवरी 1949 को फील्ड मार्शल के एम करियप्पा स्वतंत्र भारत के पहले भारतीय सेना प्रमुख बने थे. उस समय सेना में लगभग 2 लाख सैनिक थे. केएम करियप्पा के सेना प्रमुख बनाए जाने के बाद से ही हर साल 15 जनवरी को सेना दिवस मनाया जाने लगा.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


हर साल 15 जनवरी को जवानों के दस्ते और अलग-अलग रेजिमेंट की परेड होती है और झांकियां निकाली जाती हैं. सेना दिवस को हर साल बेहद उत्साह के साथ मनाया जाता है.
 
बता दें कि केएम करियप्पा (Field Marshal KM Cariappa) पहले ऐसे ऑफिसर थे, जिन्हें फील्ड मार्शल की रैंक दी गई थी. 1947 में भारत-पाक युद्ध में इंडियन आर्मी को कमांड किया था.  करियप्पा साल 1953 में रिटायर हुए थे और 1993 में 94 साल की आयु में उनका निधन हुआ था.