NDTV Khabar

जयशंकर प्रसाद का जन्‍मदिन: महान कवि और साहित्‍यकार जिसने खड़ी बोली को दिलाई पहचान

जयशंकर प्रसाद ने नौ साल की उम्र में ही 'कलाधर' नाम से एक सवैया लिख दी थी

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
जयशंकर प्रसाद का जन्‍मदिन: महान कवि और साहित्‍यकार जिसने खड़ी बोली को दिलाई पहचान

जयशंकर प्रसाद की फाइल फोटो

खास बातें

  1. बचपन से ही थी साहित्य में रुचि
  2. बागवानी करना भी था खासा पसंद
  3. बनारस में ही हुई थी जयशंकर प्रसाद की मौत
नई दिल्ली: हिंदी के प्रख्यात साहित्यकार, कवि और उपन्यासकार के रूप में पहचान बनाने वाले जयशंकर प्रसाद का जन्म 30 जनवरी 1889 को हुआ था. वह हिंदी के छायावादी युग के चार स्तंभों में से एक माने जाते हैं. उन्होंने हिंदी काव्य में छायावाद की स्थापना की, जिसके द्वारा खड़ी बोली के काव्य में कमनीय माधुर्य की रसधारा प्रवाहित हुई. जयशंकर प्रसाद खड़ी बोली में लिखे गए अपने साहित्य के लिए सबसे ज्यादा लोकप्रिय हुए.

यह भी पढ़ें: किताब-विताब : 'जग दर्शन का मेला', एक छूटती हुई विधा की ज़रूरी याद

प्रसाद ने काशी के क्वींस कॉलेज से पढ़ाई की, लेकिन कुछ समय बाद उन्होंने घर पर ही संस्कृत, उर्दू, हिंदी और फारसी की पढ़ाई शुरू की. उन्हें संस्कृत की शिक्षा प्रसिद्ध विद्वान दीनबंधु ब्रह्मचारी ने दी थी. जयशंकर प्रसाद बचपन में मिले माहौल की वजह से ही साहित्य में खासी रुचि लेने लगे थे. ऐसा कहा जाता है कि जब प्रसाद महज नौ वर्ष के थे, तभी उन्होंने 'कलाधर' नाम से एक सवैया लिख दी थी. उन्होंने वेद, इतिहास, पुराण और साहित्य शास्त्र की भी पढ़ाई की थी. जयशंकर प्रसाद के पिता बाबू देवी प्रसाद कलाकारों का सम्मान करने के लिए काफी विख्यात थे.

यह भी पढ़ें: फिल्‍म 'पद्मावत' से बड़ी मुश्किल में चारों राज्य सरकारें...

खास तौर पर बनारस में उन्हें काफी सम्मानित पुरुष माना जाता था. यही वजह थी कि आम जनता काशी नरेश के बाद 'हर-हर महादेव' से देवी प्रसाद का स्वागत करती थी. जयशंकर प्रसाद के बारे में यह बात यह कम ही लोगों को पता है कि उन्हें लेखन के अलावा बागवानी और खान-पान में भी विशेष रुचि थी. लेखन की अगर बात करें तो उन्होंने काव्य-रचना ब्रजभाषा से शुरू की और धीरे-धीरे खड़ी बोली को अपनाते हुए इस तरह अग्रसर हुए कि खड़ी बोली के मूर्धन्य कवियों में गिना जाने लगे.

टिप्पणियां


प्रसाद की रचनाएं दो वर्गो- 'काव्यपथ अनुसंधान' और 'रससिद्ध' में विभक्त हैं. उनके नाम 'आंसू', 'लहर' और 'कामायनी' जैसी प्रसिद्ध रचनाएं भी हैं. 1914 में उनकी सर्वप्रथम छायावादी रचना 'खोलो द्वार' पत्रिका इंदु में प्रकाशित हुई. 15 नबंवर,1937 को काशी में ही उनकी मृत्यु हो गई. वह उस समय 48 साल के थे.  (इनपुट आईएएनएस से) 
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement