NDTV Khabar

जामियाः NRC और नागिरकता कानून के विरोध के बीच सेमेस्टर परीक्षा स्थगित

NRC और नागरिकता कानून (Citizenship Amendment Act,2019) के विरोध में चल रहे प्रदर्शन के चलते परीक्षा को स्थगित किया गया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
जामियाः NRC और नागिरकता कानून के विरोध के बीच सेमेस्टर परीक्षा स्थगित

जामिया में विरोध प्रदर्शन के चलते सेमेस्टर परीक्षा स्थगित

खास बातें

  1. शुक्रवार को पुलिस और छात्रों के बीच हुई थी झड़प
  2. एनआरसी और नागरिकता कानून का विरोध कर रहे हैं छात्र
  3. डेढ़ दर्जन से ज्यादा छात्र घायल हो गए हैं
नई दिल्ली:

जामिया मिल्लिया इस्लामिया (Jamia Millia Islamia) में सेमेस्टर परीक्षा स्थगित कर दी गई है. ऐसा माना जा रहा है कि NRC और नागरिकता कानून (Citizenship Amendment Act,2019) के विरोध में चल रहे प्रदर्शन के चलते परीक्षा को स्थगित किया गया है. इससे पहले विरोध प्रदर्शन में छात्र और पुलिस के बीच झड़प हुई थी और तीन दर्जन से ज्यादा छात्र घायल हो गए थे और कई छात्रों को हिरासत में भी लिया गया था. फिलहाल दूसरे दिन भी छात्र विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं लेकिन अब छात्रों ने शांतिपूर्ण तरीके से विरोध प्रदर्शन करने का आह्वान किया है. बता दें कि शनिवार को छात्रों को समर्थन देने पप्पू यादव समेत कई नेता भी पहुंचे.

जामिया शिक्षक संघ (Jamia Teacher's Association) और छात्रों ने नागरिकता कानून और NRC के विरोध में शांतिपूर्ण प्रदर्शन का ऐलान किया था लेकिन देखते ही देखते हालात बेकाबू हो गए और पुलिस (Delhi Police) ने करीब बीस से तीस राउंड आंसू गैस चलाए और लाठीचार्ज भी किया. हालांकि, विश्वविद्यालय प्रशासन का कहना है कि इस प्रदर्शन में बाहरी लोगों के शामिल होने के चलते ये हालात बने. 

यह भी पढ़ें- नागरिकता कानून के खिलाफ सड़कों पर उतरे जामिया यूनिवर्सिटी के छात्र, पुलिस के साथ हुई झड़प


शुक्रवार को हुए प्रदर्शन में शामिल छात्रों को कैंपस में लौटने के लिए जामिया शिक्षक संघ के महासचिव माजिद जमील लगातार लाउडस्पीकर से कोशिश करते रहे लेकिन छात्रों की भीड़ में कुछ बाहरी लोगों के आने से हालात बिगड़ने लगे. मार्च को रोकने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले और लाठीचार्ज किया जिसमें दर्जन भर से ज्यादा छात्र घायल हो गए.

यह भी पढ़ें- बॉलीवुड एक्टर ने किया ट्वीट, बोले- जामिया के दोस्तों लड़ाई जारी रखना, मैं भी जल्द जुडूंगा...

बता दें कि नागरिकता संशोधन कानून अफगानिस्तान, पाकिस्तान और बांग्लादेश से 2015 से पहले भारत आए गैर-मुस्लिमों को देश की नागरिकता देता है. पूर्वोत्तर राज्यों समेत देश के कई हिस्सों में इस कानून और एनआरसी के विरोध में प्रदर्शन किया जा रहा है. 

टिप्पणियां

रवीश कुमार का प्राइम टाइम: जामिया मिल्लिया इस्लामिया में तेज हुआ आंदोलन



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें. Education News की ज्यादा जानकारी के लिए Hindi News App डाउनलोड करें और हमें Google समाचार पर फॉलो करें


 Share
(यह भी पढ़ें)... रवीश कुमार का ब्लॉग : CAA पर असम के मंत्री हिमंता बिश्व शर्मा का बयान पढ़ें और जोर से हंसे

Advertisement