JEE Main-NEET: झारखंड के मुख्यमंत्री ने परीक्षाओं पर जताया विरोध, NTA से की परीक्षा स्थगित करने की मांग

JEE Main And NEET 2020 Exam:  जेईई मेन (JEE Main) और नीट (NEET) परीक्षा शुरू होने में कुछ ही दिन बाकी हैं. लेकिन कोरोनावायरस के चलते परीक्षाओं को स्थगित करने की मांग बढ़ती ही जा रही है.

JEE Main-NEET: झारखंड के मुख्यमंत्री ने परीक्षाओं पर जताया विरोध, NTA से की परीक्षा स्थगित करने की मांग

JEE Main-NEET: झारखंड के मुख्यमंत्री ने परीक्षाओं के खिलाफ विरोध जताया है.

नई दिल्ली:

JEE Main And NEET 2020 Exam:  जेईई मेन (JEE Main) और नीट (NEET) परीक्षा शुरू होने में कुछ ही दिन बाकी हैं. लेकिन कोरोनावायरस के चलते परीक्षाओं को स्थगित करने की मांग बढ़ती ही जा रही है. छात्रों समेत कई राजनीतिक हस्तियां परीक्षाएं रद्द करने की मांग कर रही हैं. अब झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन (Chief Minister of Jharkhand Hemant Soren) ने भी कोरोनावायरस के बीच परीक्षाओं के आयोजन के खिलाफ विरोध जताया है. मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन चाहते हैं कि नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) सितंबर में होने वाली जेईई मेन और नीट 2020 परीक्षाओं को स्थगित कर दे. मंत्री ने यह बात कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी द्वारा बुलाई गई एक वर्चुअल बैठक में कही. 

वहीं, गुजरात के शिक्षा मंत्री भूपेंद्रसिंह चुडासमा (Gujarat Education Minister Bhupendrasinh Chudasama) ने अपना तर्क रखते हुए कहा कि गुजरात सीईटी (CET) में छात्रों की उच्च उपस्थिति से पता चलता है कि केवल छात्रों का एक छोटा वर्ग ही जेईई मेन (JEE Main 2020) और नीट (NEET 2020) परीक्षा को टालना चाहता है.  

Newsbeep

रिपोर्ट के मुताबिक,  इस साल जेईई मेन और  नीट परीक्षा में करीब 24 लाख से अधिक छात्रों ने पंजीकरण किया है. कोरोनावायरस के बीच छात्र परीक्षा को टालने की मांग कर रहे हैं. लेकिन सरकार परीक्षा स्थगित करने के हित में नहीं है. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


केंद्र सरकार के शिक्षा मंत्रालय (Ministry of Education) के उच्च पदस्थ सूत्रों ने बीते दिन बताया कि NEET और JEE एग्जाम के आयोजन को लेकर कोई पुनर्विचार नहीं किया जा रहा है. सूत्रों ने कहा, "छात्र-छात्राएं यह परीक्षाएं देना चाहते हैं. इन परीक्षाओं में कोरोनावायरस (Coronavirus) महामारी को लेकर एसओपी (SOP) का दृढ़ता से पालन किया जाएगा. परीक्षा केंद्रों पर एसओपी लागू करने के लिए प्रशिक्षण जारी है." सूत्रों ने यह भी बताया कि राज्यों से अनुरोध किया गया है कि वे बाढ़ प्रभावित इलाकों के छात्र-छात्राओं की मदद करें.