JNU छात्रों ने किया vice chancellor का आदेश मानने से इनकार, बढ़ सकता है विवाद

जेएनयू शिक्षक संघ ने इस फैसले को 10 जनवरी को होने वाली जनरल बॉडी मीटिंग में रखने की बात कही है

JNU छात्रों ने किया  vice chancellor का आदेश मानने से इनकार, बढ़ सकता है विवाद

जेएनयू की फाइल फोटो

खास बातें

  • पहले भी जेएनयूएसयू और वीसी के बीच हो चुका है विवाद
  • जेएनयू शिक्षक संघ भी इस विवाद पर करेगा बात
  • कुछ दिन पहले ही वीसी ने दिया था यह नया आदेश
नई दिल्ली:

JNU छात्र संगठन ने कुलपति के नए आदेश को मानने से इनकार कर दिया है. गौरतलब है कि कुलपति ने अपने नए आदेश में कैंपस में सभी छात्रों का अटेंडेंस मार्क करने की बात कही थी. जेएनयूएसयू की प्रेसिडेंट गीता कुमारी ने कुलपति के इस फैसले को तर्कहीन बताते हुए इसे मानने से इनकार कर दिया है. उन्होंने कुलपति के इस फैसले को एकैडमिक फ्रीडम के खिलाफ भी बताया. गीता के अनुसार वीसी का यह फैसला जेएनयू के कल्चर के खिलाफ है और वह इसे लागू नहीं होने देंगी.

यह भी पढ़ें: 90 पदों के लिए निकली हैं भर्तियां, जल्द करें आवेदन

जेएनयू में पढ़ने वाले छात्र सिर्फ क्लास रूम में ही पढ़ाई नहीं करते. कई बार उनकी क्लास ढाबे पर  तो कई बार लाइब्रेरी के बाहर भी हो जाती है. वह कहीं भी किसी भी विषय के लिए डिसकशन करते रहे हैं. ऐसे में क्लास रूम में आने की बाध्यता सही नहीं है और इसका पूर जोर विरोध करते हैं. पढ़ाई चौबीसों घंटे होने वाली प्रक्रिया है. जेएनयू में जिस स्तर की पढ़ाई होती है उसे क्लास रूम तक सीमित करना गलत है.

VIDEO: मुंबई पुलिस ने जिग्नेश और खालिद को रोका

गीता ने इस फैसले के खिलाफ वीसी ऑफिस में 2500 छात्रों के हस्ताक्षर वाला एक मेमोरेंडम भी दिया है. वहीं दूसरी तरफ जेएनयू शिक्षक संघ ने भी इस फैसले को जनरल बॉडी मीटिंग में रखने की बात कही है. ध्यान हो कि यह मीटिंग 10 जनवरी को होने जा रही है. (इनपुट भाषा से) 

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com