NDTV Khabar

एक बेहतर RESUME बदल सकती है आपकी किस्मत, रिजूम बनाते समय रखें इन 8 बातों का हमेशा ध्यान

रिजूम कैसा हो और उसमें किस तरह की चीजें होनी चाहिए इसकी जानकारी ज्यादातर लोगों को नहीं होती है

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
एक बेहतर RESUME  बदल सकती है आपकी किस्मत, रिजूम बनाते समय रखें इन 8 बातों का हमेशा ध्यान

प्रतीकात्मक चित्र

खास बातें

  1. रिजूम बनाते समय कंपनी की डिटेल्स जरूर दें
  2. कम शब्दों में करें अपनी पूरी बात
  3. अपनी उपलब्धियां भी बताना जरूरी
नई दिल्ली: RESUME किसी भी उम्मीदवार के लिए नौकरी पाने की पहली सीढ़ी होती है. लिहाजा रिजूम तैयार करते समय शब्दों के चयन से लेकर उसमें दी जाने वाली जानकारी को लेकर सतर्कता बरतनी चाहिए. एक बेहतर रिजूम आपके लिए नौकरी पाने की संभावनाओं को काफी बढ़ा देता है. लिहाजा रिजूम तैयार करते समय कई अहम बातों का ध्यान रखना जरूरी है. हालांकि रिजूम कैसा हो और उसमें किस तरह की चीजें होनी चाहिए इसकी जानकारी ज्यादातर लोगों को नहीं होती है. ऐसे में रिजूम को लेकर इस तरह की लापरवाही कई बार आपके लिए परेशानी का सबब बन सकती है. आज हम आपको बताएंगे कि आप किन बातों का ध्यान रखकर एक प्रभावशाली रिजूम तैयार कर सकते हैं... 

यह भी पढ़ें: ट्रांसलेटर बनकर आप अपने करियर को दे सकते हैं नई उड़ान
 
कंपनी की जरूरत पहचानें
रिजूम बनाते समय आपको हमेशा यह भी ध्यान में रखना चाहिए कि आप किस कंपनी के लिए रिजूम बना रहे हैं. क्या आपने संबंधित कंपनी की जरूरतों के मुताबिक अपना रिजूम अपडेट किया है या नहीं. ऐसा करने से आपके प्रति संबंधित कंपनी व वहां के एचआर का रुझान बढ़ेगा.
 
कंपनी से जुड़ी जानकारी पहले जुटाएं
जिस भी नौकरी के आप आवेदन करना चाह रहे हैं. उस कंपनी के बैकग्राउंड की जानकारी जुटाना जरूरी. इस तरह से आप अपने रिजूम को बेहतर ढंग से प्रस्तुत कर पाएंगे. हो सके तो आप अपने काम को उस कंपनी के काम के अनुसार पेश करें, ताकि जब वहां का एचआर या कंपनी के बड़े अधिकारी देखें तो वह पहली ही नजर में उसे सलेक्ट कर लें.

यह भी पढ़ें: साइन लैंग्वेज सीखकर आप अपने करियर को दे सकते हैं नई ऊंचाई 
 
दूसरों के सीवी को जरूर देखें
एक बेहतर सीवी बनाने के लिए जरूरी है कि आप अपने कुछ सहयोगियों के सीवी को भी देखें. ऐसा करने से आपको अंदाजा लग जाएगा कि आप अपने सीवी में और किस तरह के बदलाव कर सकते हैं. आप चाहें तो अपने प्रोफेसर और ऑफिस के साथियों की भी मदद ले सकते हैं.
  
लिखावट के तरीके पर दें ध्यान 
रिजूम बनाते समय आपको हमेशा अपनी लिखावट पर ध्यान देना चाहिए. लिखावट से मतलब यहां फांट साइज से है. शब्दों का फांट साइज बड़ा होने से रिजूम में लिखे चीजों को पढ़ने में आसानी होती है. खासतौर पर आपको उन जानकारियों को बड़े फान्ट या बोल्ड फॉर्म में लिखना चाहिए जो आप पहले  बताना चाहते हैं. मसलन, अपनी करेंट जॉब और वर्किंग बैकग्राउंड की जानकारी, आप जिस भी कंपनी में जो भी काम कर रहे हैं उसका विवरण और खास तौर पर आपने कंपनी में रहते हुए कौन सा काम बेहतर किया है. इस तरह की हर जानकारी को आप बड़े फांट में लिख सकते हैं.
 
कीवर्ड्स का है जमाना
इन दिनों बहुत से रिकू्रटर रिजूम शॉर्टलिस्ट करने के लिए इलेक्ट्रॉनिक मीडिया का प्रयोग करते हैं. उनके विशेष स्कैनर रेज्यूमे में प्रयोग हुए कीवड्र्स की पहचान कर उन्हें देखते हैं. इसलिए ध्यान रहे कि नौकरी से संबंधित सभी कीवर्ड्स का समझदारी से इस्तेमाल किया जाए, जिससे आपके लिए संभावनाएं अधिक हों.

टिप्पणियां
यह भी पढ़ें:  Part Time Job करते हुए इन पांच बातों का रखें ख्याल 
 
कम शब्दों में कहें बात
रिजूम आपके व्यक्तित्व और क्षमताओं की जानकारी दूसरों को देता है. इसका उद्देश्य ही आपसे जुड़ी जानकारी को कुछ शब्दों या लाइनों में दूसरे तक पहुंचाने से होता है. लिहाजा रिजूम बनाते समय आपको कम से कम शब्दों का इस्तेमाल करना चाहिए. इससे आप सामने वाले के साथ-साथ अपना समय भी बचाएंगे.
 
योग्यता को रखें ऊपर
रिजूम में अपनी अकादमिक उपलब्धियों को ऊपर रखना जरूरी है. आम तौर पर लोग अपनी अकादमिक उपलब्धियां जैसे कि कौन-कौन सा कोर्स किया है, संबंधित ट्रेनिंग या वर्कशॉप की जानकारी रिजूम के निचले हिस्से में देते हैं.

VIDEO: विद्या ने साझा किया अपना अनुभव

स्पेलिंग मिस्टेक्स से  बचें
एक बार सीवी पूरा हो जाने के बाद उसे किसी से दोबारा एक बार पढ़ा लें. ध्यान रखें कि कहीं कुछ छूट न रहा हो. इसके साथ ही स्पेलिंग भी जांच लें. कई बार स्पेलिंग की गलती सामने वाले के सामने आपका गलत इंप्रेशन बनाती है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement