किसान आंदोलन: गाज़ीपुर बॉर्डर पर डटे किसान, लाइब्रेरी बनाकर दिया जा रहा है बच्चों को ज्ञान

दिल्ली के गाज़ीपुर बॉर्डर पर किसानों के आंदोलन के बीच बच्चों की पढ़ाई को ध्यान में रखते हुए NH-9 पर एक अस्थायी लाइब्रेरी बनाई गई है.

किसान आंदोलन: गाज़ीपुर बॉर्डर पर डटे किसान, लाइब्रेरी बनाकर दिया जा रहा है बच्चों को ज्ञान

किसान आंदोनल: ग़ाज़ीपुर बॉर्डर पर डटे किसान, लाइब्रेरी बनाकर दिया जा रहा है बच्चों को ज्ञान.

दिल्ली के गाज़ीपुर बॉर्डर पर किसानों के आंदोलन के बीच बच्चों की पढ़ाई को ध्यान में रखते हुए NH-9 पर एक अस्थायी लाइब्रेरी बनाई गई है. दरअसल, किसान आंदोलन में बच्चे भी बढ़-चढ़कर अपने माता-पिता के साथ हिस्सा ले रहे हैं, ऐसे बच्चों की पढ़ाई के लिए खास इंतजाम किए गए हैं. लाइब्रेरी में बच्चों की किताबों के अलावा बड़े लोगों के लिए इतिहास की किताबें भी मौजूद हैं, ताकि आंदोलन में हिस्सा ले रहे लोग इन किताबों के माध्यम से अपने देश के इतिहास को और बेहतर तरीके से जान सकें.

आंदोलन के बीच लाइब्रेरी
NDTV से बात करते हुए एक शख्स ने कहा, "इन किताबों में इतिहास लिखा हुआ है.  हम लोगों को इतिहास पढ़ा रहे हैं." इतिहास के अलावा बच्चों के लिए भी खास किताबों का इंतजाम किया गया है. गाज़ीपुर बॉर्डर पर अपने माता-पिता का आंदोलन में साथ देने बड़ी तादाद में आए बच्चे पढ़ाई के साथ तरह-तरह  की ड्राइंग भी कर रहे हैं.


डॉक्यूमेंट्री दिखाने के लिए लगाई गई स्क्रीन
किताबों के अलावा आंदोलन में मौजूद सभी लोगों को डॉक्यूमेंट्री फिल्म दिखाने के लिए बड़ी-बड़ी स्क्रीन भी लगाई गई हैं. इसके अलावा भी किसानों को तमाम तरह की सुविधाएं देने की पूरी कोशिश की जा रही है, ताकि आंदोलन को और ज्यादा मज़बूत किया जा सके और किसानों को किसी तरह की कोई परेशानी न हो.  

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


बता दें कि CAA के ख़िलाफ़ दिल्ली के शाहीनबाग़ और जामिया यूनिवर्सिटी पर भी प्रदर्शन के दौरान इस तरह की लाइब्रेरी बनाई गई थीं, जहां बच्चे और बड़े सभी पढ़ाई करते नज़र आते थे.