ISC Results 2017: कोलकाता की छात्रा अनन्या आईएससी बोर्ड की टॉपर, मिले 99.5 फीसदी अंक

परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी गैरी अराथून ने बताया कि आईसीएसई (दसवीं कक्षा) और आईएससी (कक्षा 12वीं) के 2017 के परिणाम में उतीर्ण होने वाले छात्रों की संख्या में पिछले वर्ष की तुलना में मामूली वृद्धि हुई है.

ISC Results 2017: कोलकाता की छात्रा अनन्या आईएससी बोर्ड की टॉपर, मिले 99.5 फीसदी अंक

पश्चिम बंगाल की राजधानी स्थित हेरिटेज स्कूल की अनन्या मैती ने आईएससी (12वीं) बोर्ड में शीर्ष स्थान प्राप्त किया है. उन्हें 99.5 फीसदी अंक मिले हैं. इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट एक्जामिनेशन (आईसीएसई) ने सोमवार को यह घोषणा की. पुणे के हचिंग्स हाई स्कूल की मुस्कान अब्दुल्ला पठान तथा बेंगलुरू के सेंट पाउल इंग्लिश स्कूल के अश्विन राव ने आईसीएसई बोर्ड की 10वीं की परीक्षा में संयुक्त रूप से शीर्ष स्थान प्राप्त किया है.

परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी गैरी अराथून ने बताया कि आईसीएसई (दसवीं कक्षा) और आईएससी (कक्षा 12वीं) के 2017 के परिणाम में उतीर्ण होने वाले छात्रों की संख्या में पिछले वर्ष की तुलना में मामूली वृद्धि हुई है. देशभर के 988 स्कूलों के 73,633 छात्रों ने 12वीं कक्षा की परीक्षा दी थी. इसमें 97.73 लड़कियां और 95.39 फीसदी लड़के पास हुए हैं.

यह भी पढ़ें: CISCE ICSE, ISC Results 2017: बोर्ड ने जारी किए 10वीं-12वीं के नतीजे, cisce.org पर करें चेक

ये है सेकेंड और थर्ड टॉपर
12वीं में लखनउ की आयुषी श्रीवास्तव, कोलकाता के देवेश लाखोटिया, मुंबई की रिषिका धारीवाल और गुरूग्राम के के श्रीकांत 99.25 प्रतिशत अंकों के साथ संयुक्त रूप से दूसरे स्थान पर रहे. अनंत कोठारी (कोलकाता(, दीप्ति एस (देहरादून), सौगत चौधरी (कोलकाता), वेदांशी गुप्ता और युक्ता मीणा (लखनउ) 99 प्रतिशत अंकों के साथ संयुक्त रूप से तीसरे स्थान पर रहे.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

10वीं के टॉपर
मुंबई के फरजान होशी भरूचा और परगना की देवाश्री पाल ने 99.2 प्रतिशत अंकों के साथ संयुक्त दूसरा स्थान हासिल किया. केरल की मीनाक्षी एस और पुणे के राघव सिंघल 99 फीसदी अंकों के साथ संयुक्त रूप से तीसरे स्थान पर रहे.

दक्षिण क्षेत्र का प्रदर्शन रहा अच्‍छा
क्षेत्रवार प्रदर्शन की बात करें तो 12वीं कक्षा में दक्षिण क्षेत्र का प्रदर्शन सबसे अच्छा रहा है. वहीं कक्षा दस में दक्षिण और पश्चिम क्षेत्रों के परिणाम सबसे अच्छे रहे हैं. पहली बार बोर्ड ने डिजिलॉकर सुविधा उपलब्ध कराया है जिसके जरिये छात्र डिजिटल रूप से हस्ताक्षरित अंकपत्र और प्रमाणपत्र प्राप्त करेंगे. (एजेंसियों से इनपुट)