मजदूर के बेटे ने पास किया UPSC, नौकरी के साथ ऐसे की थी तैयारी

जानें- जोसेफ के मैथ्यू के बारे में, जिन्होंने नौकरी की दौरान की थी यूपीएससी की तैयारी.

मजदूर के बेटे ने पास किया UPSC, नौकरी के साथ ऐसे की थी तैयारी

जोसेफ के मैथ्यू

नई दिल्ली:

अगर इंसान कुछ करने की एक बार ठान ले, तो क्या कुछ नहीं कर सकता. आज आपको ऐसे शख्स के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्होंने अपनी हेक्टिक नौकरी के दौरान UPSC की तैयारी कर परीक्षा पास की. आइए जानते हैं उनके बारे में

इन शख्स का नाम जोसेफ के मैथ्यू (Joseph K Mathew)है. उन्होंने यूपीएससी परीक्षा में 574 रैंक हासिल की है. परीक्षा की तैयारी करने से पहले उन्होंने दिसंबर 2010  को अखिल भारतीय एम्स परीक्षा को क्रैक किया था. जिसके बाद उनकी नियुक्ति ट्रॉमा सेंटर के सर्जिकल केयर यूनिट में नर्स के पद पर हुई.  

बता दें, मैथ्यू ने कोट्टायम के सरकारी मेडिकल कॉलेज से ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी की, केरल के बैकवाटर में कुमारकोम गांव से हैं. उनके पिता एक दिहाड़ी खेतिहर मजदूर रहे हैं.

NDTV से बात करते हुए उन्होंने कहा, 'मेरा प्लान था दिल्ली आकर IAS UPSC परीक्षा देनी है, दिल्ली में यूपीएससी परीक्षा के काफी कोचिंग सेंटर हैं. इसी के साथ कई ऐसे दोस्त भी थे, जो इस परीक्षा की तैयारी कर रहे थे. ऐसे में मैंने सोचा कि एक बार इस परीक्षा को देना चाहिए. जिसके बाद साल 2012 में पहली बार यूपीएससी की परीक्षा दी.

पहले प्रयास के लिए कोई कोचिंग नहीं ली थी. पहले प्रयास में हुआ तो नहीं, लेकिन मालूम चला कि ये अगर मेहनत की जाए तो इस परीक्षा को क्लियर कर सकता हूं.' वहीं दूसरे प्रयास में मेरा प्रीलिम्स क्लियर हो गया था, लेकिन मेंस नहीं हुआ था.  बता दें, मैथ्यू ने पांचवे प्रयास में यूपीएससी परीक्षा पास की है.

मैथ्यू ने बताया, नर्स की नौकरी काफी हेक्टिक होती है.  जिसका कोई शेड्यूल नहीं होता है. मेरी शिफ्ट आठ घंटे की होती थी. मेरा पूरा समय उसी में ही चला जाता था.  

Newsbeep

उन्होंने आगे कहा, “मेरे पास कोई  फिक्स्ड शेड्यूल  नहीं था. जिन दिनों मेरी सुबह की शिफ्ट थी, मैं शाम को पढ़ाई करता, लेकिन महीने में छह दिन, जब मेरी नाइट शिफ्ट होती थी, मैं समय निकालता था और जो मैंने पहले ही अध्ययन किया था, उसे रिवाइज्ड कर सकूं.  मेरी अधिकांश तैयारी ऑनलाइन उपलब्ध सामग्री से हुई थी.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com