लाखों स्टूडेंट्स को इस तरह पढ़ा रहा है मध्यप्रदेश बोर्ड, व्हाट्सऐप पर भेज रहा पढ़ाई के लिए कंटेंट

इंदौर डिवीजन में करीब 727 सरकारी हाई स्कूल और 645 हायर सेकेंडरी स्कूल हैं, जिनके करीब व्हाट्सऐप 1367 ग्रुप्स हैं. इन ग्रुप्स के माध्यम से लाखों स्टूडेंट्स की पढ़ाई में मदद की जा रही है.

लाखों स्टूडेंट्स को इस तरह पढ़ा रहा है मध्यप्रदेश बोर्ड, व्हाट्सऐप पर भेज रहा पढ़ाई के लिए कंटेंट

मध्यप्रदेश बोर्ड स्टूडेंट्स को व्हाट्सऐप के जरिए पढ़ा रहा है.

नई दिल्ली:

Madhya Pradesh Board: मध्य प्रदेश बोर्ड स्टूडेंट्स को पॉपुलर मोबाइल ऐप व्हाट्सएप के जरिए पढ़ा रहा है. दरअसल, कोरोनावायरस (Coronavirus) लॉकडाउन के चलते स्कूल लंबे समय से बंद हैं. ऐसे में मध्य प्रदेश बोर्ड स्टूडेंट्स को व्हाट्सऐप के जरिए पढ़ाई के लिए कंटेंट भेज रहा है. पढ़ाई के लिए कंटेंट करीब 3 लाख स्टूडेंट्स को भेजा जा रहा है, जिसमें इंदौर में पढ़ाई का कंटेंट 65 फीसदी स्टूडेंट्स तक भेजा जा रहा है.

इंदौर डिवीजन के संयुक्त निदेशक मनीष वर्मा ने टीओआई को बताया, "सभी स्टूडेंट्स को पढ़ाई के लिए सामग्री मिल रही है या  नहीं, यह सुनिश्चित करने के लिए विभाग सभी साधनों के माध्यम से ज्यादा से ज्यादा स्टूडेंट्स तक पहुंचने की कोशिश कर रहा है." उन्होंने आगे कहा, "विभाग ने राज्य बोर्ड से एफिलिएटेड स्कूलों को भी कंटेंट देना शुरू कर दिया है."

बता दें कि इंदौर डिवीजन में करीब 727 सरकारी हाई स्कूल और 645 हायर सेकेंडरी स्कूल हैं, जिनके करीब 1367 ग्रुप्स हैं. इन ग्रुप्स के माध्यम से लाखों स्टूडेंट्स की पढ़ाई में मदद की जा रही है. इसके अलावा राज्य बोर्ड से एफिलिएटेड प्राइवेट स्कूल भी करीब 1.2 लाख स्टूडेंट्स को 5888 व्हाट्सऐप ग्रुप के जरिए पढ़ने की सामग्री स्टूडेंट्स को भेज रहे हैं. हालांकि, इनके अलावा 9वीं से 12वीं क्लास के 35 फीसदी स्टूडेंट्स ऐसे भी हैं, जिन्हें कंटेंट नहीं मिल पा रहा है.

Newsbeep

बोर्ड के अधाकारी ने बताया, "35 फीसदी स्टूडेंट्स ऐसे हैं, जो व्हाट्सऐस ग्रुप को ज्वॉइन नहीं कर पा रहे हैं. इन स्टूडेंट्स के लिए विभाग दूसरे तरीके अपनाने की कोशिश कर रहा है. 11 मई से दूरदर्शन पर 10वीं और 12वीं क्लास के लिए कंटेंट उपलब्ध कराया जाएगा, क्योंकि इन स्टूडेंट्स को बोर्ड की परीक्षाएं देनी हैं और इन्हें सबसे ज्यादा ध्यान की जरूरत है."

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


बता दें कि कोरोनावायरस महामारी के चलते देशभर के सभी स्कूल और कॉलेज बंद हैं. लॉकडाउन को दूसरी बार 17 मई तक बढ़ाया जा चुका है. लॉकडाउन खुलने के बाद स्कूल खोले जा सकते हैं, हालांकि अभी इस बारे में कोई जानकारी सामने नहीं आई है.