Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

महाराष्ट्र के सभी स्कूलों में मराठी पढ़ना होगा अनिवार्य, जल्द ही कानून बनाएगी राज्य सरकार

सुभाष देसाई ने मंगलवार को कहा कि राज्य सरकार अगले विधानसभा सत्र में एक विधेयक लाएगी जिसमें राज्य के सभी स्कूलों में मराठी की पढ़ाई अनिवार्य होगी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
महाराष्ट्र के सभी स्कूलों में मराठी पढ़ना होगा अनिवार्य, जल्द ही कानून बनाएगी राज्य सरकार

महाराष्ट्र सरकार जल्द ही राज्य स्कूलों में मराठी को अनिवार्य करने वाली है.

खास बातें

  1. महाराष्ट्र सरकार जल्द ही राज्य में मराठी को अनिवार्य कर देगी
  2. इस बार में अगले सत्र में कानून बनाएगी सरकार
  3. मंत्री सुभाष देसाई ने बयान में कही ये बात
मुंबई:

महाराष्ट्र (Maharashtra) के उद्योग मंत्री सुभाष देसाई (Subhash Desai) ने मंगलवार को कहा कि राज्य सरकार (Maharashtra Govt.)  अगले विधानसभा सत्र में एक विधेयक लाएगी जिसमें राज्य के सभी स्कूलों में मराठी भाषा (Marathi) की पढ़ाई अनिवार्य होगी, चाहे वे किसी भी माध्यम के हों. शिवसेना (Shiv Sena) नेता देसाई ने कहा कि इस संबंध में विधेयक का मसौदा तैयार किया जा रहा है. उन्होंने ‘मुंबई मराठी पत्रकार संघ' के एक संवाद कार्यक्रम में यह बात कही.
बता दें कि विधानसभा का अगला सत्र फरवरी में होगा.

टिप्पणियां

26 जनवरी से महाराष्ट्र के स्कूलों में संविधान की प्रस्तावना का पाठ होगा अनिवार्य


देसाई के हवाले से एक बयान में कहा गया, ‘‘सरकार अगले महीने विधानसभा सत्र में एक कानून बनाएगी जिसमें सभी स्कूलों में पहली से दसवीं कक्षा तक मराठी भाषा की पढ़ाई अनिवार्य होगी चाहे उनमें किसी भी माध्यम में अध्यापन कार्य होता हो.''
उन्होंने कहा कि राज्य में अंग्रेजी माध्यम के 25 हजार स्कूल हैं और उनकी संख्या बढ़ रही है. इन स्कूलों में मराठी नहीं पढ़ाई जाती या उसे वैकल्पिक विषय के रूप में रखा जाता है. उन्होंने कहा, ‘‘ऐसे सभी स्कूलों में मराठी भाषा की पढ़ाई अनिवार्य होगी.''



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें. Education News की ज्यादा जानकारी के लिए Hindi News App डाउनलोड करें और हमें Google समाचार पर फॉलो करें


 Share
(यह भी पढ़ें)... कैसे तेजस्वी और नीतीश की मुलाक़ात के आधे घंटे के अंदर NPR के ख़िलाफ़ प्रस्ताव सर्वसम्मति से पारित हो गया

Advertisement