NDTV Khabar

Maharashtra SSC Result 2017: करना होगा और इंतजार, इस हफ्ते रिजल्ट आने की उम्मीद कम

Maharashtra SSC result 2017: स्टूडेंट्स रिजल्ट से जुड़ी अपडेट के लिए बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट चेक करते रहें. बोर्ड कुछ दिनों पहले 12वीं के नतीजे घोषित कर चुका है  

35 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
Maharashtra SSC Result 2017: करना होगा और इंतजार, इस हफ्ते रिजल्ट आने की उम्मीद कम

Maharashtra SSC Result 2017: महाराष्ट्र बोर्ड 10वीं के नतीजे इस हफ्ते जारी होना मुश्किल

Maharashtra SSC result 2017: महाराष्ट्र बोर्ड के 10वीं कक्षा के नतीजों में कुछ दिन की देरी और सकती है. इस हफ्ते रिजल्ट आने की उम्मीद बेहद कम है. महाराष्ट्र बोर्ड के एक अधिकारी एनडीटीवी से बातचीत के दौरान इस बात की पुष्टि की है कि 10वीं (एसएससी) कक्षा का परीक्षा परिणाम जारी किए जाने में अभी और देरी होगी. मीडिया रिपोर्ट्स को खारिज करते हुए बोर्ड अधिकारी ने कहा कि इस सप्ताह नतीजे जारी होने की कोई उम्मीद नहीं है. स्टूडेंट्स रिजल्ट से जुड़ी अपडेट के लिए बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट चेक करते रहें. बोर्ड कुछ दिनों पहले 12वीं के नतीजे घोषित कर चुका है  

नतीजों की घोषणा होने पर यूं देखें रिजल्ट 
- http://www.mahresult.nic.in पर लॉग इन करें
- वेबसाइट के होमपेज पर दिख रहे SSC Examination Result March 2017 के लिंक पर क्लिक करें
- नई विंडो खुलने पर दिए गए दो बॉक्स में अपना रोल नंबर और मां का फर्स्ट नेम डालें. 
- View Result पर क्लिक करें. रिजल्ट आपकी स्क्रीन पर आ जाएगा. 
- रिजल्ट का प्रिंट आउट ले लें.

12वीं बोर्ड का रिजल्ट 
महाराष्ट्र बोर्ड 12वीं कक्षा में 89.50 विद्यार्थी पास हुए हैं. कोंकण डिविजन का रिजल्ट सबसे अच्छा रहा है. यहां 95.20 फीसदी स्टूडेंट्स पास हुए हैं. वहीं दूसरे स्थान पर 91.40 प्रतिशत रिजल्ट के साथ कोल्हापुर डिविजन है. 93.05 प्रतिशत लड़कियां पास हुई हैं जबकि 86.65 प्रतिशत लड़के. यानी लड़कियों ने लड़कों को इस बुरी तरह पछाड़ा है. 

जानिए कैसा रहा था 2016 का 10वीं का रिजल्ट 
पिछले साल महाराष्ट्र बोर्ड ने 10वीं का रिजल्ट 6 जून को जारी किया था. परीक्षा में कुल 89.56 प्रतिशत स्टूडेंट्स सफल हुए हुए थे. परीक्षा में 91.49 प्रतिशत लड़कियां पास हुई हैं जबकि 87.98 प्रतिशत लड़के. सभी 9 डिविजनों में कोंकर्ण डिविजन का पास प्रतिशत सबसे अच्छा रहा था. यहां 96.56 फीसदी विद्यार्थी पास हुए थे. जबकि लातूर डिविजन सबसे फिसड्डी रहा  था. यहां सिर्फ 81.54 स्टूडेंट्स ही सफल हो पाए थे. 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement