जानें- कैसी होगी दिल्ली स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी, मनीष सिसोदिया ने बताई- खासियत

दिल्ली स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी जल्द बनने वाली है. जानिए- कैसे होगी यूनिवर्सिटी, ये है खासियत. यहां पढ़ें.

जानें- कैसी होगी दिल्ली स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी, मनीष सिसोदिया ने बताई- खासियत

जल्द बनेगी दिल्ली स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी

नई दिल्ली:

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने मुंडका में दिल्ली स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी के लिए प्रस्तावित स्थल का निरीक्षण किया. वर्तमान में चल रहे COVID-19 महामारी के कारण यूनिवर्सिटी का काम रुक गया था. लेकिन अब यूनिवर्सिटी बनाने का काम शुरू किया जा रहा है, ताकि शिक्षा और स्पोर्ट्स  के क्षेत्र में बच्चों और युवाओं को मौके मिले. 

मनीष सिसोदिया ने कहा, 'दिल्ली स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी खेल की दुनिया में देश का नाम रौशन करेगी. हम अपने युवाओं को खेल के क्षेत्र में आगे बढ़ने के लिए विश्वस्तरीय सुविधाएं और ट्रेनिंग प्रदान करेंगे. अगर हमने ऐसा कर दिखाया तो हमारी खेल प्रतिभाएं भी अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता में अधिक से अधिक मेडल लाकर देश का नाम रौशन करेगी, उन्होंने कहा, ये यूनिवर्सिटी देश की वर्ल्ड क्लास यूनिवर्सिटी साबित होगी.'

जानें- कैसे होगी यूनिवर्सिटी
मनीष सिसोदिया ने अपने आधिकारिक फेसबुक अकाउंट पर एक वीडियो शेयर करते हुए बताया कि भविष्य में बनने वाली दिल्ली स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी में क्या- क्या सुविधाएं होंगी. उन्होंने बताया, पहले एक स्पोर्ट्स स्कूल बनेगा. जिसमें स्विमिंग पूल, जिम की सुविधा होगी. स्पोर्ट्स यूनिर्सिटी के लिए हॉस्टल भी बनाया जाएगा. इस यूनिवर्सिटी को मुंडका मेंबनाया जाएगा.

मनीष सिसोदिया ने कहा, बच्चा चाहे मुंडका का हो या किसी और या जिले का, उन्हें हॉस्टल में ही रहना होगा.  उन्होंने कहा, जिन बच्चों में स्पोर्ट्स की प्रतिभा होगी उन्हें स्कूल से ही ले लेंगे.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

आपको बता दें, यूनिवर्सिटी की जमीन के आस पास जितने भी पेड़ हैं, कोशिश की जाएगी की निर्माण के दौरान कम से कम पेड़ काटे जाएं, इसी के साथ कई पेड़ों को एक स्थान से हटाकर कैंपस के अंदर लगाया जाएगा. मौजूदा समय में जितने भी पेड़ हैं उनकी संख्या जानने के लिए सर्वे किया जाएगा.

मनीष सिसोदिया ने कहा, 'मान लीजिए स्पोर्ट्स स्कूल में छठी के बच्चे ने किसी खेल में हिस्सा ले लिया, तो उस छात्र को राज्य के खेल, नेशनल खेल, इंटरनेशनल खेल में खेलने का मौका दिया जाएगा. मुझे पूरा यकीन है बच्चे गोल्ड मेडल लेकर आएंगे.'