लॉकडाउन के चलते ऑनलाइन कक्षाओं की ओर स्‍टूडेंट्स का झुकाव, MHRD के ई-लर्निंग प्‍लेटफॉर्म की ड‍िमांड 5 गुना बढ़ी

मानव संसाधन विकास मंत्रालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार, लगभग 59,000 लोग प्रतिदिन ‘Swayam Prabha’ डीटीएच टीवी चैनलों के वीडियो देख रहे हैं और लॉकडाउन शुरू होने के बाद से लेकर अबतक 6.8 लाख से ज्यादा लोग इन्हें देख चुके हैं.

लॉकडाउन के चलते ऑनलाइन कक्षाओं की ओर स्‍टूडेंट्स का झुकाव, MHRD के ई-लर्निंग प्‍लेटफॉर्म की ड‍िमांड 5 गुना बढ़ी

लॉकडाउन के बाद से ई-लर्निंग प्‍लेटफॉर्म की मांग पांच गुना बढ़ गई है

नई दिल्ली:

कोरोनावायरस (Coronavirus) के मद्देनजर लागू देशव्यापी लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान मानव संसाधन विकास मंत्रालय के आनलाइन प्लेटफार्म पर छात्रों सहित लोगों की पहुंच में पांच गुना वृद्धि दर्ज की गई है.

मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, "23 मार्च 2020 से लेकर अब तक, मानव संसाधन विकास मंत्रालय के विभिन्न ई-लर्निंग प्लेटफार्मों में संयुक्त रूप से 1.4 करोड़ से भी ज्यादा की पहुंच देखने को मिली है." उन्होंने बताया कि नेशनल ऑनलाइन एजुकेशन प्लेटफॉर्म,  SWAYAM को मंगलवार तक तक लगभग 2.5 लाख बार एक्सेस किया गया है, जो मार्च के अंतिम सप्ताह में 50,000 पहुंच स्थापित करने के आंकड़े में पांच गुना वृद्धि दर्शाता है.

ये आंकड़े SWAYAM प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध 574 पाठ्यक्रमों में पहले से नामांकित लगभग 26 लाख शिक्षार्थियों के अलावा हैं.
 
मानव संसाधन विकास मंत्रालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार, लगभग 59,000 लोग प्रतिदिन ‘Swayam Prabha' डीटीएच टीवी चैनलों के वीडियो देख रहे हैं और लॉकडाउन शुरू होने के बाद से लेकर अबतक 6.8 लाख से ज्यादा लोग इन्हें देख चुके हैं.

Newsbeep

मंत्रालय और इसके अंतर्गत आने वाले संस्थानों की अन्य डिजिटल पहलों के साथ भी ऐसा ही उछाल देखा गया है. नेशनल डिजिटल लाइब्रेरी को बुधवार को केवल एक दिन में, 1,60,804 बार और लॉकडाउन अवधि में लगभग 14,51,886 बार एक्सेस किया गया, जबकि यह पहले लगभग 22,000 बार प्रतिदिन एक्सेस होता था. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


अधिकारियों ने बताया कि केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से, संस्थानों के प्रमुखों के साथ लगातार संपर्क में हैं और आवश्यक मार्गदर्शन और निर्देश दे रहे हैं तथा इस संबंध में फीडबैक भी प्राप्त कर रहे हैं.