NDTV Khabar

Mother Teresa: दुनिया के लिए शांति दूत थीं मदर टेरेसा, जानिए उनके 10 विचार

आज मदर टेरेसा की जयंती (Mother Teresa Birthday) हैं. मदर टेरेसा का जन्म  26 अगस्त, 1910 को मेसिडोनिया के स्कोप्जे शहर में हुआ था.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Mother Teresa: दुनिया के लिए शांति दूत थीं मदर टेरेसा, जानिए उनके 10 विचार

Mother Teresa Birthday: मदर टेरेसा का जन्म  26 अगस्त, 1910 को मेसिडोनिया के स्कोप्जे शहर में हुआ था.

नई दिल्ली: आज मदर टेरेसा की 108वीं जयंती (Mother Teresa's 108th Birth Anniversary) हैं. मदर टेरेसा का जन्म  26 अगस्त, 1910 को मेसिडोनिया के स्कोप्जे शहर में हुआ था. मदर टेरेसा की जयंती (Mother Teresa Birthday) पर पूरी दुनिया ने उन्हें याद कर श्रद्धांजलि अर्पित की है. मदर टेरेसा कैथोलिक नन थी. उन्होंने गरीबों और बीमारी से पीड़ित रोगियों के लिए अपना पूरा जीवन समर्पित कर दिया था. मदर टेरेसा दुनिया के लिए शांति की दूत थीं. उन्हें साल 1979 में नोबेल शांति पुरस्कार मिला था. मदर टेरेसा के विचारों ने समाज में शांति और प्रेम बनाए रखने का काम किया है. आज मदर टेरेसा के जन्मदिन के मौके पर हम आपको उनके कुछ ऐसे विचारों के बारें में बताने जा रहे हैं, जिनसे प्रेरणा लेकर आप एक बेहतर और सफल इंसान बन सकते हैं.

मदर टेरेसा के विचार (Mother Teresa Quotes)

1. छोटी-छोटी बातों में विश्वास रखें क्योंकि इनमें ही आपकी शक्ति निहित है। यही आपको आगे ले जाती है

2. यदि हमारे मन में शांति नहीं है तो इसकी वजह है कि हम यह भूल चुके हैं कि हम एक दुसरे के हैं.

3. मैं चाहती हूं कि आप अपने पड़ोसी के बारे में चिंतित हों.  क्या आप जानते हैं कि आपका पड़ोसी कौन है?

4. भगवान यह अपेक्षा नहीं करते कि हम सफल हों, वे तो केवल इतना चाहते हैं कि हम प्रयास करें.

5. कल तो चला गया, आने वाला कल अभी आया नहीं, हमारे पास केवल आज है. आइए, शुरुआत करें.

6. हम कभी नहीं जान पाएंगे कि एक छोटी-सी मुस्कान कितना भला कर सकती है और कितनों को खुशी दे सकती है.

23 अगस्त का इतिहास: आज ही के दिन छापी गई थी बाइबिल की पहली प्रति

7. जो आपने कई वर्षों में बनाया है वह रात भर में नष्ट हो सकता है तो भी क्या आगे बढिए उसे बनाते रहिये.

8. लोग अवास्तविक, विसंगत और आत्मा केन्द्रित होते हैं फिर भी उन्हें प्यार दीजिये.

टिप्पणियां
9. मुझे लगता है हम लोगों का दुखी होना अच्छा है, मेरे लिए यह यीशु के चुम्बन की तरह है.

10. सबसे बड़ी बीमारी कुष्ठ रोग या तपेदिक नहीं है , बल्कि अवांछित होना ही सबसे बड़ी बीमारी है.
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
 Share
(यह भी पढ़ें)... बिहार में कुशवाहा फैक्टर...

Advertisement