लॉकडाउन के बाद स्‍कूल कब और कैसे खुलेंगे? HRD मंत्री ने दी ये जानकारी

केंद्रीय मंत्री रमेश पोखर‍ियाल निशंक ने बताया कि NCERT स्‍कूलों के लिए गाइडलाइन बना रहा है

लॉकडाउन के बाद स्‍कूल कब और कैसे खुलेंगे?  HRD मंत्री ने दी ये जानकारी

एचआरडी मंत्री रमेश पोखर‍ियाल 'निशंक' ने कहा कि जब भी स्‍कूल खुलेंगे तय दिशा-निर्देशों का पालन करना होगा.

नई दिल्ली:

राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद यानी कि एनसीईआरटी (NCERT)उन दिशा-निर्देशों और स्‍वास्‍थ्‍य संबंधी प्रोटोकॉल पर काम कर रहा है जिन्‍हें स्‍कूलों के दोबारा खुलने के बाद मानना अनिवार्य होगा. केंद्रीय मानव संसाधान विकास मंत्री रमेश पोखर‍ियाल ने कहा कि एनसीईआरटी स्‍कूली शिक्षा के लिए गाइडलाइन तैयार कर रहा है.

आपको बता दें कि एचआरडी मंत्री आज वेबिनार के जरिए टीचरों से मुखातिब हुए. इस दौरान मध्‍य प्रदेश के एक शिक्षक संभव जैन ने पूछा कि स्‍कूल कब खुलेंगे और उन्‍हें किन नियमों का पालन करना होगा. 

इस सवाल के जवाब में केंद्रीय मंत्री ने कहा कि यह तो कहा नहीं जा सकता कि चीजें सामान्‍य कब होंगी, लेकिन जब भी स्‍कूल खुलेंगे तय दिशा-निर्देशों का पालन करना होगा. इसके लिए एनसीईआरटी ने गाइडलाइन पर काम करना शुरू कर दिया है. 

उच्‍च शिक्षा के लिए विश्वविद्यालय अनुदान आयोग यानी यूजीसी (UGC) ने एक टास्‍क फोर्स का गठन किया है, जो कॉलेजों के लिए तौर-तरीकों पर काम कर रहा है. उनहोंने यह भी बताया कि इन तरीकों के तय हो जाने के बाद ही कॉलेजों को खोला जाएगा. 

एनसीईआरटी पहले ही प्राइमरी, उच्च प्राथमिक और हायर सेकेंडी कक्षाओं के लिए वैकल्पिक अकादमिक कैलेंडर जारी कर चुका है. वहीं, देश भर के स्‍कूलों में बच्‍चों को ऑनलाइन कक्षाओं के जरिए पढ़ाया जा रहा है. 

कोरोनावायरस महामारी और लॉकडाउन के मद्देनजर विश्विविद्यालयों की परीक्षाओं और अकादमिक कैलेंडर को लेकर यूजीसी भी गाइडलाइन जारी कर चुका है. सरकार द्वारा इस मामले में एक विशेषज्ञ समिति का गठन किया गया था जो कि मामले में सुझाव दे सके. यूजीसी ने इस समिति की सिफारिशों को स्वीकार करते हुए अकादमिक सत्र 2020-21 की शुरुआत  पुराने छात्रों के लिए 01 अगस्त से तो वहीं नए छात्रों के लिए 01 सितंबर से किए जाने की घोषणा की थी. 

एचआरडी मंत्री ने आज वेबिनार के जरिए टीचरों के तमाम सवालों के जवाब दिए. इनमें से ज्‍यादातर सवाल स्‍कूल-कॉलेजों को दोबारा खोलने और ऑनलाइन शिक्षा से संबंधित थे. वेबिनार में केंद्रीय मंत्री ने एक बार फिर डिजिटल पहल दीक्षा (DIKSHA) और निष्‍ठा (NISHTHA) के इस्‍तेमाल पर जोर दिया. शिक्षक ऑनलाइन ट्रेनिंग के लिए इन डिजिटल माध्‍यमों का इस्‍तेमाल कर सकते हैं. 

Newsbeep

उन्‍होंने बताया कि NISHTHA के जरिए एनसीईआरटी ब्‍लॉक स्‍तर पर 42 लाख शिक्षकों को ट्रेनिंग दे रहा है. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


मंत्री ने बताया कि सुदूर इलाकों के जिन छात्रों के पास इंटरनेट की सुविधा नहीं है उनके लिए डीटीएच पर 24*7 32 स्‍वयं प्रभा (SWAYAM PRABHA) चैनलों का प्रसारण किया जा रहा है. ये सभी चैनल डीडी, ड‍िश टीवी, टाटा स्‍काई और रिलायंस पर भी उपलब्‍ध हैं.