NEET 2018 : हार्ड वर्क से ज्यादा स्मार्ट वर्क करें तभी मिलेगी मंजिल - रोहन पुरोहित

मेडिकल की नीट 2018 की प्रवेश परीक्षा में हैदराबाद के रोहन पुरोहित ने दूसरा स्थान हासिल किया

NEET 2018 : हार्ड वर्क से ज्यादा स्मार्ट वर्क करें तभी मिलेगी मंजिल - रोहन पुरोहित

नई दिल्ली:

मेडिकल की नीट 2018 की प्रवेश परीक्षा के परिणाम सोमवार को घोषित किए गए. इसमें हैदराबाद के रोहन पुरोहित ने दूसरा स्थान हासिल किया है. रोहन बचपन से काफी मेहनती हैं और उन्होंने अपने लक्ष्य को हासिल करने के लिए ग्यारहवीं कक्षा से ही तैयारी शुरू कर दी थी. रोहन ने हैदराबाद स्थित श्रीचेतना इंस्टिट्यूट से कोचिंग की है परन्तु उनका मानना है कि कोचिंग या किताबें केवल मदद कर सकते हैं, असली मंजिल मिलती है मेहनत और लगन से, जिसका कोई विकल्प नहीं मिल सकता.

रोहन का कहना है कि अगर आपको अपना भविष्य सुधारना है तो आप कल का इंतज़ार नहीं कर सकते, बल्कि इसके लिए आज से ही मेहनत करनी होगी. रोहन का बचपन का सपना ही डॉक्टर बनना था, इसलिए वह निरंतर प्रयास कर रहे थे ताकि उनसे कोई कमी न रह जाए. रोहन के माता-पिता दोनों ही डॉक्टर हैं और रोहन भी उनकी तरह डॉक्टर ही बनना चाहते थे. इसके लिए उनके माता-पिता ने हर तरीके ये गाइड किया और हर कदम पर प्रोत्साहित किया.

रोहन से जब NDTV ने उनकी रणनीति पूछी तो उन्होंने बताया NCERT बेहद जरुरी है पर आपको अन्य किताबें भी पढ़नी पड़ेंगी. फिजिक्स की तैयारी के लिए रोहन अन्य स्टूडेंट्स को सलाह देना चाहेंगे की उनको JEE मैन्स की किताबें पढ़नी चाहिए क्योंकि इस बार भी फिजिक्स काफी  मुश्किल आई थी और अगर आपने पहले से ही उसकी तैयारी की होगी तो एग्जाम में आप परेशान नहीं होंगे और अच्छी रैंक हासिल कर पाएंगे. रोहन के इस बार केमिस्ट्री में फुल मार्क्स आए हैं और उन्होंने बताया कि वह कभी भी कोई मुश्किल सवाल नहीं छोड़ते थे और उसकी  ज्यादा से ज्यादा प्रैक्टिस करते थे.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

रोहन कहते हैं कि कांसेप्ट आना जरूरी है परन्तु आपको सवाल हल करना भी आना चाहिए, और जितने मुश्किल सवाल आप पहले ही हल कर लेंगे उतने ही परीक्षा से पहले कॉंन्फिडेंट रहेंगे और एग्जाम अच्छा कर पाएंगे. वो कहते हैं की आपको अपनी रणनीति ऐसे बनानी है की एग्जाम से पहले एक बार सब कुछ दोहरा सके और नोट्स भी बनाये ताकि समय की बचत हो सके अंत समय की तैयारी के वक़्त.

 
neet 2018 rohan purohit air 2

रोहन इस बार पर भी काफी जोर देते है कि हमें स्मार्ट वर्क करना चाहिए ताकि मेहनत का सही परिणाम मिल सके वरना वक़्त और मेहनत दोनों बेकार चली जाती है. मेहनत तो सब करते हैं परन्तु टॉपर  वो  बनते हैं जो स्मार्ट तरीके से पढाई करते हैं. रोहन को 720  में से 690 अंक मिले है और उन्होंने तेलंगाना का नाम फिर एक बार रोशन किया है.

देशभर के मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस और बीडीएस में प्रवेश के लिए इस साल 6 मई को NEET परीक्षा का आयोजन किया गया था जिसका परिणाम 4 जून को ही जारी किया गया.