NDTV Khabar

तो अब देश भर के स्कूलों में एक जैसी होगी पढ़ाई, तैयारियां शुरू 

सभी राज्य सरकार और वहां के एजुकेशन बोर्ड से लगातार संपर्क में है मंत्रालय

57 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
तो अब देश भर के स्कूलों में एक जैसी होगी पढ़ाई, तैयारियां शुरू 

प्रतीकात्मक फोटो

खास बातें

  1. कुछ कोर्स में बदलाव करने की होगी अनुमति
  2. मसौदा तैयार करने के लिए बनाई गई टीम
  3. राज्य सरकारों से भी मांग गए हैं सुझाव
नई दिल्ली: देश के सभी स्कूलों में एक जैसी पढ़ाई हो इसके तैयारियां शुरू कर दी गई हैं. इसके लिए मानव संसाधन विकास मंत्रालय सभी राज्य सरकारों से बात कर रहा है. मंत्रालय अलग-अलग राज्यों के एजुकेशन बोर्ड से भी संपर्क में है. इस योजना के तहत सबसे पहले सभी स्कूलों और एजुकेशन बोर्ड के करिकुलम को एक जैसा करने की कोशिश की जा रही है. मंत्रालय के इस पहल के बाद जल्द ही अब सभी एजुकेशन बोर्ड के परीक्षा पत्र एक जैसे ही होंगे. 

यह भी पढ़ें : शारीरिक शिक्षा के बिना शिक्षा अधूरी: मानव संसाधन विकास जावड़ेकर

हिन्दुस्तान से बातचीत में मानव संसाधन विकास मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि सभी स्कूलों में एक जैसी पढ़ाई हो इसके लिए एजुकेशन बोर्ड सहमत हैं. सभी एजुकेशन बोर्ड का कहना है कि 12वीं कक्षा तक के करिकुलम एक जैसा करने की अब जरूरत है. इसका मतलब यह हुआ कि सभी एजुकेशन बोर्ड में पढ़ रहे छात्रों की कोर पढ़ाई एक जैसी ही होगी.  सभी एजुकेशन बोर्ड और राज्य सरकारों के बीच सहमति बन जाती है तो इस योजना को अमल में लाने का कार्य शुरू किया जाएगा. इस पहल को लागू करने के लिए मंत्रालय किसी भी एजुकेशन बोर्ड पर किसी तरह का दबाव नहीं डालेगी. इस पहल को सही तरीके से लागू करने के लिए सभी बोर्ड में सहमति बनना जरूरी है. 

यह भी पढ़ें: HRD मिनिस्ट्री की केंद्रीय विद्यालयों को रैंकिंग देने की अनोखी पहल, सुधरेगा शिक्षा का स्तर

सामाजिक विज्ञान के चैप्टर हो सकते हैं अलग 
मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार नए बदलाव के तहत सामाजिक विज्ञान के कुछ चैप्टर राज्यों के हिसाब से अलग हो सकते हैं. जबिक साइंस और मैथ्स का करिकुलम एक जैसा ही किया रहेगा. सामाजिक विज्ञान में राज्यों के पास अपने-अपने स्तर पर कुछ बदलाव करने की अनुमति होगी. हर राज्य अपने स्तर पर राज्य से जुड़ी चीजें छात्रों को पढ़ाना चाहती है, लिहाजा इस विषय में छूट देना अनिवार्य है. हालांकि इनका भी कोर करिकुलम एक जैसा करने की कोशिश की जाएगी. 

यह भी पढ़ें: मानव संसाधन विकास मंत्रालय केंद्रीय विद्यालयों को देगा रैंकिंग

स्कूल एक्टिविटी को भी दिया जाएगा वेटेज
एचआरडी मंत्रालय के अधिकारी के मुताबिक, करिकुलम एक जैसा होने के बाद ही प्रश्नपत्र का प्रारूप और डिजाइन एक जैसा करने की दिशा में आगे बढ़ा जाएगा. उन्होंने कहा कि सभी एजुकेशन बोर्ड इस पर भी सैद्धांतिक रूप से सहमत हैं. सभी का मानना है कि पेपर डिजाइन एक जैसा होने से छात्र चाहे किसी भी बोर्ड में पढ़ रहे हों, उनका मूल्यांकन एक तरीके से हो सकेगा.
VIDEO: जब जारी की गई शिक्षा संस्थानों की रैंकिंग


साथ ही सभी बोर्ड एक्स्ट्रा करिकुलर एक्टिविटी का वेटेज भी एक जैसा करने के लिए भी तैयार हैं. उन्होंने उम्मीद जताई कि इस सत्र से सभी स्कूलों का सिलेबस एक जैसा करने की दिशा में कदम बढ़ाया जाएगा. 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement