NDTV Khabar

रिपोर्ट में खुलासा, क्लास 1 के सिर्फ 41 फीसदी बच्चे ही पहचान पाते हैं 2 अंकों की संख्या

रिपोर्ट के मुताबिक कक्षा 1 में 41.1 फीसदी बच्चे 2 अंकों की संख्या को पहचान सकते हैं, जबकि कक्षा 3 में 72.2 फीसदी बच्चे ऐसा सकते हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
रिपोर्ट में खुलासा, क्लास 1 के सिर्फ 41 फीसदी बच्चे ही पहचान पाते हैं 2 अंकों की संख्या

4 से 5 वर्ष में बच्चों में सभी कार्यों को करने की क्षमता में वृद्धि होती है.

खास बातें

  1. क्लास 1 के सिर्फ 41.1 फीसदी बच्चे ही 2 अंकों की संख्या पहचान पाते हैं.
  2. कक्षा 3 में 72.2 फीसदी बच्चे ऐसा सकते हैं.
  3. ये खुलासा असर 2019 की रिपोर्ट में हुआ है.
नई दिल्ली:

देश में बच्चों की शिक्षा की दशा-दिशा का जायज़ा लेने वाली वार्षिक सर्वेक्षण रिपोर्ट 'असर 2019' जारी कर दी गई है. इस रिपोर्ट के मुताबिक कक्षा 1 में 41.1 फीसदी बच्चे 2 अंकों की संख्या को पहचान सकते हैं, जबकि कक्षा 3 में 72.2 फीसदी बच्चे ऐसा सकते हैं. लेकिन NCERT के सीखने के परिणामों के विनिर्देश के मुताबिक कक्षा 1 के बच्चों को 99 तक संख्याएं पहचानने में सक्षम होना चाहिए.  बाल विकास विशेषज्ञ और अनुसंधान यह बताते हैं कि 4 से 5 वर्ष में बच्चों में सभी कार्यों को करने की क्षमता में वृद्धि होती है.

असर 2019 के आंकडें भी इस बात की पुष्टि करते हैं. उदाहरण के लिए, सरकारी पूर्व-प्राथमिक कक्षाओं (आंगनवाडी या सरकारी स्कूल में पूर्व प्राथमिक कक्षा) में जाने वाले 4 वर्ष के 31 फीसदी बच्चे और 5 वर्ष के 45 फीसदी बच्चे एक 4 टुकड़ों का पजल सही बना पाते हैं. RTE Act 2009 के अनुसार बच्चों को 6 वर्ष की आयु में कक्षा 1 में प्रवेश लेना चाहिए.

लेकिन देश में कई राज्य 5+ वर्ष की आयु में भी बच्चों को कक्षा 1 में नामांकन की अनुमति देते हैं. कक्षा 1 में हर 10 बच्चों में से 4 बच्चे 5 वर्ष से छोटे या 6 वर्ष से अधिक आयु के हैं. कुल मिलाकर, कक्षा 1 में 41.7 फीसदी बच्चे 6 वर्ष की RTE Act निर्धारित आयु के हैं, 36.4 फीसदी 7 या 8 वर्ष के हैं और 21.9 फीसदी 4 या 5 वर्ष के हैं.
 

टिप्पणियां


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें. Education News की ज्यादा जानकारी के लिए Hindi News App डाउनलोड करें और हमें Google समाचार पर फॉलो करें


 Share
(यह भी पढ़ें)... BJP विधायक के विवादित बोल, 'मस्जिदें प्रार्थना के लिए नहीं बल्कि हथियार रखने की जगह बन गयी'

Advertisement