NDTV Khabar

एंटीगुआ में छिपा है PNB स्कैम का आरोपी मेहुल चोकसी, जानिए इस देश के बारें में 5 खास बातें

PNB Scam का आरोपी मेहुल चोकसी एंटीगुआ में छिपा बैठा है. मेहुल ने कैरेबियाई देश का पासपोर्ट ले लिया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
एंटीगुआ में छिपा है PNB स्कैम का आरोपी मेहुल चोकसी, जानिए इस देश के बारें में 5 खास बातें

PNB Scam: एंटीगुआ वेस्ट इंडीज का एक द्वीप है.

खास बातें

  1. पीएनबी स्कैम का आरोपी मेहुल चोकसी एंटीगुआ में छिपा बैठा है.
  2. मेहुल ने कैरेबियाई देश का पासपोर्ट ले लिया है.
  3. एंटीगुआ वेस्ट इंडीज का एक द्वीप है.
नई दिल्ली: पीएनबी घोटाला मामले का भगोड़ा हीरा व्यापारी मेहुल चोकसी अमेरिका से एंटीगुआ चला गया है. मेहुल चोकसी अब कैरेबियाई देश एंटीगुआ में शरण ले चुका है. उसने कैरेबियाई देश का पासपोर्ट ले लिया है. मेहुल चोकसी पंजाब नेशनल बैंक में दो अरब डॉलर के घोटाले के मास्टरमाइंड नीरव मोदी का मामा है. सीबीआई ने बैंक घोटाला मामले में चोकसी के खिलाफ दो मामले दर्ज किए हैं और उसके खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किए हैं. चोकसी बैंक घोटाला मामले के आरोपी नीरव मोदी का मामा है. मुंबई की एक विशेष अदालत ने उसके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया है. आपको बता दें कि कैरिबियन देश भगाड़ों के लिए जन्नत की तरह है. कहा जाता है कि यहां भगोड़े आसानी से पैसे देकर नागरिकता खरीद सकते हैं.

जानिए Antigua के बारे में 5 खास बातें

1. एंटीगुआ वेस्ट इंडीज का एक द्वीप है. इस मूल निवासियों द्वारा वालाडली या वाडाडली के रूप में भी जाना जाता है. एंटीगुआ की राजधानी St. John's है.

2. एंटीगुआ दुनिया के सबसे कम आबादी वाले देशों की लिस्ट में आता है. इसकी आबादी  80 हजार से ज्यादा है.

3. एंटीगुआ की अर्थव्यवस्था वहां के पर्यटन पर टिकी हुई है. घूमने के लिहाज से लोग इस द्वीप को बेहद पसंद करते हैं.

4. इस द्वीप के बारे में ऐसा कहा जाता है कि यहां कोई भी इन्फ्रास्ट्रक्चर और विकास में निवेश के जरिए पासपोर्ट और यहां की नागरिकता हासिल कर सकता है. कैरिबियन द्वीपसमूह के देशों के लिए अपने डिवेलपमेंट के लिए फंडिंग का यह एक तरीका है और यह प्रक्रिया सिर्फ कुछ महीनों में पूरी हो जाती है.

टिप्पणियां
PNB स्कैम : एंटीगुआ पहुंचा भगोड़ा हीरा व्‍यापारी मेहुल चोकसी, स्थानीय पासपोर्ट भी मिला

5. एंटीगुआ के पासपोर्ट पर कोई भी 32 देशों की यात्रा कर सकता है. इसमें इंग्लैंड भी शामिल है. साथ ही यहां अगर कोई 5 साल में 5 दिन भी गुजारता है तो उसकी नागरिकता के लिए यह काफी है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement