QS World University Rankings 2018: दुनिया की टॉप 200 यूनिवर्सिटी में तीन भारतीय संस्थानों ने बनाई जगह

पिछले वर्ष (2016-2017) इस पूरी लिस्ट में 14 भारतीय संस्थानों को जगह मिली थी जबकि इस बार (2017-18) इसमें 20 भारतीय संस्थानों को शामिल किया गया है. 

QS World University Rankings 2018: दुनिया की टॉप 200 यूनिवर्सिटी में तीन भारतीय संस्थानों ने बनाई जगह

आईआईटी दिल्ली, आईआईटी बॉम्बे और आईआईएससी बेंगलुरु दुनिया के टॉप 200 विश्वविद्यालयों में शामिल

ब्रिटेन में हुए एक सर्वेक्षण में दुनिया के टॉप 200 यूनिवर्सिटी की लिस्ट में तीन भारतीय शैक्षणिक संस्थानों को जगह मिली है. गरुवार को जारी की गई ‘क्यूएस वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग 2018’ में इस बार आईआईटी दिल्ली, आईआईएससी बेंगलुरु को पछाड़कर शीर्ष भारतीय संस्थान बन गया है. आईआईटी दिल्ली इस साल 172वें पायदान पर आ गया है जबकि पिछले साल यह 185वें पायदान पर था. वहीं आईआईएससी बेंगलौर 152वें स्थान से खिसकर 190वें स्थान पर जा पहुंचा है. वहीं आईआईटी बॉम्बे भी शानदार प्रदर्शन करते हुए इस पॉपुलर विश्व रैंकिंग में पिछले साल की 219वीं रैंक से चढ़कर 179वीं रैंक पर आ गया है. 2004 में क्यूएस रैंकिंग की शुरुआत के बाद से ऐसा पहली मर्तबा हुआ है कि टॉप 200 में तीन भारतीय संस्थान जगह बनाने में कामयाब रहे हैं. पिछले वर्ष (2016-2017) इस पूरी लिस्ट में 14 भारतीय संस्थानों को जगह मिली थी जबकि इस बार (2017-18) इसमें 20 भारतीय संस्थानों को शामिल किया गया है. 

वैश्विक शिक्षा विश्लेषक QS Quacquarelli Symonds ने दुनिया की टॉप 959 यूनिवर्सिटीज की लिस्ट जारी की है. ‘क्यूएस वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग 2018’ में अमेरिका की मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एमआईटी) लगातार छठे वर्ष टॉप पर कायम है. जबकि अमेरिका के ही दो अन्य विश्वविद्यालय स्टैनफोर्ड दूसरे पायदान पर और हार्वर्ड तीसरे पायदान पर है. 

यहां जानते हैं कि क्यूएस वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग के 14वें संस्करण में आखिर किन भारतीय शैक्षणिक संस्थानों को जगह दी गई है... 

रैंकयूनिवर्सिटी
172आईआईटी दिल्ली
179आईआईटी बॉम्बे
190इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस (आईआईएससी) बेंगलुरु
264आईआईटी मद्रास
293आईआईटी कानपुर
308आईआईटी खड़गपुर
431-440आईआईटी रुड़की
481-490दिल्ली यूनिवर्सिटी
501-550आईआईटी गुवाहाटी
601-650जादवपुर यूनिवर्सिटी
601-650हैदराबाद यूनिवर्सिटी
651-700अन्ना यूनिवर्सिटी
701-750मणिपाल यूनिवर्सिटी
751-800कलकत्ता यूनिवर्सिटी
801-1000अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी
801-1000बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी
801-1000बिड़ला इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी एंड साइंस
801-1000पंजाब यूनिवर्सिटी
801-1000मुंबई यूनिवर्सिटी
801-1000पुणे यूनिवर्सिटी
N/Aजवाहरलाल नेहरु यूनिवर्सिटी
 
इस लिस्ट को तैयार करने में 75,015 शिक्षाविदों और 40,455 नियोक्ताओं की सलाह ली गई है. दुनिया भर में काफी लोकप्रिय क्यूएस वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग का निर्धारण शोध, अध्यापन, रोजगार क्षमता और अंतर्राष्ट्रीयकरण जैसे क्षेत्रों में शैक्षणिक संस्थान के प्रदर्शन के आधार पर किया जाता है. इसमें अकादमिक प्रतिष्ठा को 40 प्रतिशत, नियोक्ता की छवि को 10 प्रतिशत, छात्र-अध्यापक अनुपात को 20 प्रतिशत, साइटेशन प्रति फैकल्टी को 20 प्रतिशत, इंटरनेशनल फैकल्टी अनुपात को 5 प्रतिशत व इंटरनेशनल स्टूडेंट अऩुपात को 5 प्रतिशत वेटेज दिया जाता है. 
Newsbeep

यह भी पढ़ें- QS World University Rankings 2018: ये हैं वर्ल्ड की टॉप 10 यूनिवर्सिटी

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


हायर एजुकेशन में प्रवेश करने जा रहे स्टूडेंट्स के लिए क्यूएस वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग कई तरह से फायदेमंद है. इससे उन्हें पता लग जाता है कि कौन सा शिक्षण संस्थान कितने पानी में है.