Sardar Patel: सरदार वल्लभ भाई पटेल के ये 10 विचार आज भी रगों में भर देते हैं जोश

सरदार वल्लभ भाई पटेल (Sardar Vallabhbhai Patel) की आज जयंती है. सरदार पटेल आजाद भारत के पहले उप-प्रधानमंत्री और गृह मंत्री थे.

Sardar Patel: सरदार वल्लभ भाई पटेल के ये 10 विचार आज भी रगों में भर देते हैं जोश

Sardar Vallabhbhai Patel

खास बातें

  • आज सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती है.
  • सरदार पटेल का जन्म 31 अक्टूबर 1875 को गुजरात के नडियाद में हुआ था.
  • सरदार पटेल ने देश की आजादी में बेहद खास योगदान दिया था.
नई दिल्ली:

सरदार वल्लभ भाई पटेल (Sardar Vallabhbhai Patel) की आज जयंती है. सरदार पटेल आजाद भारत के पहले उप-प्रधानमंत्री और गृह मंत्री थे. उनका जन्म (Sardar Patel Birthday) 31 अक्टूबर 1875 को गुजरात के नडियाद में हुआ था. सरदार पटेल ने देश की आजादी में बेहद खास योगदान दिया था. पटेल पेशे से वकील थे. वे सरदार ही थे जिन्होंने 562 देशी रियासतों का भारत में विलय करवाया था. भारत को एक राष्ट्र बनाने में वल्लभ भाई पटेल की खास भूमिका है. सरदार पटेल (Sardar Patel) के विचार आज भी देश के लाखों युवाओं को प्रेरणा देते हैं. आज सरदार पटेल की जयंती (Sardar Patel Jayanti) के मौके पर हम आपको पटेल के अनमोल विचारों (Sardar Patel Quotes) के बारें में बताने जा रहे हैं.


सरदार वल्लभ भाई पटेल के अनमोल विचार (Sardar Vallabhbhai Patel Quotes)


1. "इस मिट्टी में कुछ अनूठा है, जो कई बाधाओं के बावजूद हमेशा महान आत्माओं का निवास रहा है."

2. "आज हमें ऊंच-नीच, अमीर-गरीब, जाति-पंथ के भेदभावों को समाप्त कर देना चाहिए."

3. "शक्ति के अभाव में विश्वास व्यर्थ है. विश्वास और शक्ति, दोनों किसी महान काम को करने के लिए आवश्यक हैं."

4. "मनुष्य को ठंडा रहना चाहिए, क्रोध नहीं करना चाहिए. लोहा भले ही गर्म हो जाए, हथौड़े को तो ठंडा ही रहना चाहिए अन्यथा वह स्वयं अपना हत्था जला डालेगा. कोई भी राज्य प्रजा पर कितना ही गर्म क्यों न हो जाये, अंत में तो उसे ठंडा होना ही पड़ेगा.

5. "आपकी अच्छाई आपके मार्ग में बाधक है, इसलिए अपनी आँखों को क्रोध से लाल होने दीजिये, और अन्याय का सामना मजबूत हाथों से कीजिये."

6. "अधिकार मनुष्य को तब तक अंधा बनाये रखेंगे, जब तक मनुष्य उस अधिकार को प्राप्त करने हेतु मूल्य न चुका दे."

7. "आपको अपना अपमान सहने की कला आनी चाहिए."


8. “मेरी एक ही इच्छा है कि भारत एक अच्छा उत्पादक हो और इस देश में कोई अन्न के लिए आंसू बहाता हुआ भूखा ना रहे.”

9. “जब जनता एक हो जाती है, तब उसके सामने क्रूर से क्रूर शासन भी नहीं टिक सकता। अतः जात-पांत के ऊँच-नीच के भेदभाव को भुलाकर सब एक हो जाइए.”

10. “संस्कृति समझ-बूझकर शांति पर रची गयी है. मरना होगा तो वे अपने पापों से मरेंगे। जो काम प्रेम, शांति से होता है, वह वैर-भाव से नहीं होता.”

अन्य खबरें
Statue Of Unity Live: दुनिया की सबसे ऊंची सरदार पटेल की 'स्टैच्यू ऑफ यूनिटी' का पीएम मोदी ने किया भव्य अनावरण
दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा 'स्टैच्यू ऑफ यूनिटी' का अनावरण, ये हैं विश्व की 6 सबसे ऊंची प्रतिमाएं

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com