Schools Reopening: पुणे में 1 फरवरी से खुलेंगे कक्षा 5वीं से 8वीं के लिए स्कूल, इन नियमों का करना होगा पालन

Schools Reopening: पुणे म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन (PMC) द्वारा जारी निर्देशों के अनुसार, पुणे के स्कूल 5वीं से आठवीं कक्षा के छात्रों के लिए 1 फरवरी से फिर से खुलेंगे.

Schools Reopening: पुणे में 1 फरवरी से खुलेंगे कक्षा 5वीं से 8वीं के लिए स्कूल, इन नियमों का करना होगा पालन

Schools Reopening: पुणे में 1 फरवरी से खुलेंगे कक्षा 5वीं से 8वीं के लिए स्कूल.

नई दिल्ली:

Schools Reopening: पुणे म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन (PMC) द्वारा जारी निर्देशों के अनुसार, पुणे के स्कूल 5वीं से आठवीं कक्षा के छात्रों के लिए 1 फरवरी से फिर से खुलेंगे. इन छात्रों के लिए कक्षाओं में पढ़ाई फिर से शुरू करने के लिए कई सावधानियां भी बरती जाएंगी. पीएमसी ने कक्षा 9वीं से 12वीं तक के छात्रों के लिए शहर में स्कूलों को फिर से खुलने के एक महीने बाद जूनियर कक्षाओं के लिए स्कूलों को फिर से खोलने की अनुमति दी है. दरअसल, आगामी बोर्ड परीक्षाओं के मद्देनजर पुणे में पहले उच्च कक्षाओं के लिए स्कूलों को फिर से खोल दिया गया था.

नगर आयुक्त विक्रम कुमार ने एक आदेश जारी किया, जिसमें कहा गया कि स्कूलों को फिर से खोलने के लिए जारी दिशानिर्देशों और मानक संचालन प्रक्रिया (SoP) का पालन करते हुए 1 फरवरी से कक्षा 5वीं से 8वीं तक के छात्रों के लिए स्कूल खोले जा सकते हैं. 

पीएमसी द्वारा जारी आदेश में कहा गया है कि छात्रों को स्कूल परिसर में कक्षा में उपस्थित होने से पहले अपने माता-पिता द्वारा साइन एक सहमति पत्र जमा करना होगा. स्कूल के अधिकारी भी गैर-शिक्षण और शिक्षण स्टाफ को 23 जनवरी से स्कूल आने के लिए कह सकते हैं.

इन नियमों का करना होगा पालन
- पीएमसी द्वारा जारी किए गए दिशानिर्देशों के अनुसार, सभी शिक्षकों को स्कूल आने से पहले RTPCR टेस्ट कराना होगा और उसकी नेगेटिव रिपोर्ट जमा करनी होगी.


- शिक्षकों को यह भी सुनिश्चित करना होगा कि सभी छात्र स्कूलों में कोविड -19 सुरक्षा दिशानिर्देशों का पालन कर रहे हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


- आधिकारिक दिशानिर्देशों के अनुसार, कक्षाओं और शौचालयों को भी समय-समय पर सैनिटाइज़ किया जाएगा. कक्षाओं और कर्मचारियों के कमरे में बैठने की व्यवस्था सोशल डिस्टेंसिंग को ध्यान में रखकर की जाएगी. स्कूल कोविड -19 दिशानिर्देशों के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए पोस्टर भी लगाएंगे.