NDTV Khabar

साइन लैंग्वेज सीखकर आप करियर में पा सकते हैं नए मुकाम

अलग-अलग फिल्ड में नौकरी के कई बेहतर मौके हैं मौजूद, मिलती है अच्छी सैलरी

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
साइन लैंग्वेज सीखकर आप करियर में पा सकते हैं नए मुकाम

प्रतीकात्मक चित्र

खास बातें

  1. देश के साथ-साथ विदेशों में भी नौकरी के बेहतर विकल्प मौजूद
  2. देश में कई नए तरह के कोर्स उपलब्ध हैं
  3. कुछ महीने का कोर्स कर आप पा सकते हैं मोटी सैलरी
नई दिल्ली:

आप अगर चाहते हैं कुछ महीनें के कोर्स के बाद आप मोटी सैलरी वाली कोई नौकरी करें तो आपके लिए साइन लैंग्वेज कोर्स एक बेहतर विकल्प साबित हो सकता है. आप इस लैंग्वेज को सीखने के साथ दूतावास से लेकर कई बड़ी जगहों पर नौकरी पा सकते हैं. इसके अलावा आपके पास  शिक्षा, समाज सेवा, सरकारी क्षेत्र और बिजनेस से लेकर परफॉर्मिंग आर्ट, मेंटल हेल्थ जैसे क्षेत्रों में भी बेहतर नौकरी पाने का मौका है.आप इस लैंग्वेज को सीखने के साथ ही देश के बाहर भी नौकरी पा सकते हैं. 

यह भी पढ़ें: ग्राफिक डिजाइनिंग में बनाना चाहते हैं सक्‍सेसफुल करियर तो अपनाएं ये Tips 

इस लैंग्वेज को सीखने के बाद यह काम करेंगे आप
साइन लैंग्वेज इंटरप्रेटर का काम सामने वाले के शब्दों को तय संकेतों में ढालकर दूसरे को इशारे में समझाना होता है. इस तरह के भाषा संकेत अंग्रेजी में सबसे ज्यादा प्रचलित हैं. आज कल स्कूल-कॉलेजों में मूक-बधिर छात्रों के साथ-साथ सामान्य छात्र भी सांकेतिक भाषा सीख रहे हैं. इस विषय में स्नातक करने वाले छात्रों के लिए शिक्षा के साथ-साथ कई क्षेत्र में बेहतर मौके मौजूद हैं. 


मिलेंगे आपको नए रोजगार के कई नए मौके 
इस लैंग्वेज को सीखने के बाद आपको शिक्षा, समाज सेवा क्षेत्र, सरकारी संस्थानों और बिजनेस से लेकर परफॉर्मिंग आर्ट्स, मेंटल हेल्थ, मेडिकल और कानून सहित बहुत से क्षेत्रों में काम बेहतर विकल्प मौजूद हैं. स्वयंसेवी संस्थाओं में भी काम करने के काफी अवसर हैं. इस लैंग्वेज को सीखने वाले लोगों का तो कई बार पढ़ाई करते हुए अलग-अलग संस्थाओं में नौकरी लग जाती है. 

यह भी पढे़ं: ऑफिस में काम करते हुए अगर आपने आजमाए यह 5 टिप्स

इस तरह होती है पढ़ाई
मूक-बधिर छात्रों को पढ़ाने के दो अहम तरीके हैं. पहला मौखिक संवाद और दूसरा इंडियन साइन लैंग्वेज. देश के लगभग 500 स्कूलों से ज्यादा स्कूलों में दूसरे तरीके से ही छात्रों को पढ़ाया जाता है. साइन लैंग्वेज में तीन से चार महीने के कोर्स के अलावा शारीरिक अशक्तता से ग्रस्त बच्चों के शिक्षण के लिए कई अन्य कोर्स भी हैं, जिन्हें पूरा करने के बाद अच्छे रोजगार प्राप्त किए जा सकते हैं.

दिन पर दिन बढ़ रही हैं मांग
आपको भले ही यह सुनने में अजीब लगे लेकिन बीते कुछ वर्षों में साइन लैंग्वेज सीखे लोगों की मांग बढ़ रही है. इसकी एक वजह यह है कि भारत में मूक-बधिर लोगों की संख्या दुनिया में सबसे ज्यादा है. साइन लैंग्वेज उनकी प्राकृतिक भाषा है. ऐसे में इन छात्रों को भी प्रशिक्षण देने के लिए साइन लैंग्वेज शिक्षकों की मांग बढ़ी है.

यह भी पढ़ें: इन तरीकों से खुद को मल्टीटास्किंग बनाकर अपने करियर को दीजिए नई उड़ान

मिलता है बेहतर सैलरी ऑफर
इस क्षेत्र में करियर बनाने वालों के पास अच्छी आमदनी का भी मौका होता है. खासकर यदि आप विदेशी एनजीओ या मेडिकल क्षेत्र से जुड़ते हैं तो शुरुआती स्तर पर बीस से पच्चीस हजार रुपये तक आसानी से कमाया जा सकता है. जैसे जैसे आप अनुभव पाते हैं वैसे ही आपको मिलने वाले पैकेज में तेजी से बदलाव होता है.  

प्रतीकों की हो सही जानकारी
बेहतर प्रोफेशनल बनने के लिए आपको बेहतर प्रतीकों को समझना आना चाहिए. इसके लिए उनके इस्तेमाल की विधि बताई जाती है. सभी कोर्स दो से चार महीने के लिए कराए जाते हैं. कोर्स के तहत बेसिक से लेकर एडवांस लेवल की जानकारी अलग-अलग चरणों में दी जाती है.

टिप्पणियां

VIDEO: भारतीय महिला क्रिकेट टीम की कप्तान मिताली राज ने साझा किया अपना अनुभव


साथ ही उन्हें विभिन्न क्षेत्रों से जुड़ने के लिए भी संकेतों के माध्यम से गहन अध्ययन कराया जाता है. इस माध्यम में छात्रों को पढ़ाई के दौरान आवश्यक अध्ययन सामग्री भी उपलब्ध कराई जाती है.
 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement