Board Exams 2020: कंटेनमेंट ज़ोन के स्टूडेंट्स के लिए बनाए जाएंगे स्पेशल परीक्षा केंद्र, सोशल डिस्टेंसिंग को होगा पालन

Tamil Nadu Board Exams 2020: तमिलनाडु सरकार 10वीं बोर्ड परीक्षा में बैठने वाले सभी स्टूडेंट्स के बीच सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) के नियम का सख्ती से पालन कराएगी.

Board Exams 2020: कंटेनमेंट ज़ोन के स्टूडेंट्स के लिए बनाए जाएंगे स्पेशल परीक्षा केंद्र, सोशल डिस्टेंसिंग को होगा पालन

Tamil Nadu Board Exams 2020: कंटेनमेंट ज़ोन के स्टूडेंट्स के लिए स्पेशल परीक्षा केंद्र बनाए जाएंगे.

नई दिल्ली:

Tamil Nadu Board Exams 2020: कोरोनावायरस महामारी के चलते देश के कई राज्यों में बोर्ड की परीक्षाएं स्थगित कर दी गई थीं. लेकिन अब दोबारा से बोर्ड की परीक्षाएं आयोजित कराई जाएंगी. परीक्षा के लिए कई बोर्ड ने नया शेड्यूल भी जारी कर दिया है. इनमें तमिलनाडु बोर्ड भी शामिल है. तमिलनाडु सरकार 10वीं बोर्ड परीक्षा में बैठने वाले सभी स्टूडेंट्स के बीच सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) के नियम का सख्ती से पालन कराएगी. वहीं, कंटेनमेंट ज़ोन (Containment Zones) के स्टूडेंट्स के लिए विशेष परीक्षा केंद्रों को तैयार करेगी. परीक्षाएं 15 जून से शुरू की जाएंगी. 

इसके अलावा परीक्षा की अवधिक के दौरान 10वीं और 12वीं के करीब 46.37 लाख स्टूडेंट्स समेत शिक्षकों और अन्य कर्मचारियों को मास्क बांटने की योजना भी बनाई गई है. तमिलनाडु सरकार की तरफ से बताया गया है कि बोर्ड परीक्षा देने वाले स्टूडेंट्स के लिए कुल 12,690 परीक्षा केंद्र तैयार किए गए हैं. 

एक अधिकारी ने पीटीआई को बताया, "सोशल डिस्टेंसिंग का सख्ती से पालन किया जाएगा और एक हॉल में सिर्फ 10 स्टूडेंट्स को ही परीक्षा देने की अनुमति दी जाएगी. " यह भी बताया गया है कि अन्य जिलों या राज्यों से आने वाले छात्रों को क्वारनटीन नहीं किया जाएगा, बल्कि उन्हें सामान्य केंद्रों के भीतर अलग-अलग हॉल में परीक्षा लिखने की अनुमति दी जाएगी. परीक्षा और मूल्यांकन केंद्र दोनों को ही दिन में दो बार सैनिटाइज किया जाएगा. 

Newsbeep

पीटीआई की रिपोर्ट के मुताबिक, कंटेनमेंट ज़ोन (Containment Zones) के लिए अल्टरनेटिव परीक्षा केंद्र बनाए जाएंगे. कंटेनमेंट ज़ोन से आने वाले स्टूडेंट्स स्पेशल परीक्षा केंद्रों से परीक्षा दे सकेंगे. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


बता दें कि 10वीं बोर्ड की परीक्षा में लगभग 2.22 लाख शिक्षक और कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई जाएगी,  जबकि 1.65 लाख शिक्षक और कर्मचारी उच्च माध्यमिक परीक्षा में शामिल होंगे.