NDTV Khabar

भ्रष्टाचार के आरोपों के चलते हटाए गए त्रिपुरा विश्वविद्यालय के कुलपति

मानव संसाधन मंत्रालय ने त्रिपुरा विश्वविद्यालय (केंद्रीय) के कुलपति (वीसी) प्रोफेसर विजयकुमार लक्ष्मीकांतराव धारुरकर को भ्रष्टाचार के आरोपों के बाद हटा दिया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
भ्रष्टाचार के आरोपों के चलते हटाए गए त्रिपुरा विश्वविद्यालय के कुलपति

त्रिपुरा विश्वविद्यालय

नई दिल्ली:

मानव संसाधन मंत्रालय ने त्रिपुरा विश्वविद्यालय (केंद्रीय) के कुलपति (वीसी) प्रोफेसर विजयकुमार लक्ष्मीकांतराव धारुरकर को भ्रष्टाचार के आरोपों के बाद हटा दिया. एक शीर्ष अधिकारी ने रविवार को कहा कि मंत्रालय ने उनके स्थान पर बॉटनी विभाग के वरिष्ठतम प्रोफेसर संग्राम सिन्हा को कार्यवाहक कुलपति नियुक्त किया है. नाम उजागर नहीं करने की शर्त पर त्रिपुरा विश्वविद्यालय के एक शीर्ष अधिकारी ने कहा, "मानव संसाधन मंत्रालय ने धारुरकर को हटा दिया और उनके स्थान पर सिन्हा को नियुक्त कर दिया. शनिवार को छुट्टी होने के बावजूद धारुरकर को जबरन सिन्हा को चार्ज देने के लिए बाध्य किया गया."

उन्होंने कहा कि प्रोफेसर वी. एल. धारुरकर इससे पहले महाराष्ट्र के मराठवाड़ा विश्वविद्यालय में जनसंचार और पत्रकारिता के प्रोफेसर थे. उन्हें पिछले साल जुलाई में त्रिपुरा विश्वविद्यालय के कुलपति के रूप में नियुक्त किया गया था. धारुरकर रविवार को अगरतला छोड़ कर महाराष्ट्र के औरंगाबाद में स्थित अपने घर के लिए रवाना हो गए.

कार्यवाहक कुलपति प्रोफेसर संग्राम सिन्हा ने आईएएनएस से रविवार को बात करते हुए कहा, "मेरा कोलकता के अस्पताल में इलाज चल रहा था. मानव संसाधन मंत्रालय की ओर से मुझे कल (शनिवार को) कहा गया कि मैं कार्यवाहक कुलपति का चार्ज लूं, जिसके बाद मैं यहां अगरतला वापस आया." सिन्हा ने आगे कहा, "अब मंत्रालय सभी मानक प्रक्रियाओं को पूरा करने के बाद एक नए कुलपति की नियुक्ति करेगा."


टिप्पणियां

अन्य खबरें
एनईपी का नया मसौदा सुनने में अच्छा, लेकिन बदलावों को लागू कैसे किया जाएगा इसका जिक्र नहीं : सिसोदिया
पैनासोनिक इंडिया ने आईआईटी के 30 स्टूडेंट्स को दी स्कॉलरशिप



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement