UP Board 2020: 10वीं और 12वीं की परीक्षा में पास करने के लिए स्टूडेंट्स और पैरेंट्स को मिल रही फर्जी कॉल, UP Board ने किया सचेत

UP Board Result 2020: कुछ लोग फर्जी कॉल करके स्टूडेंट्स को यूपी बोर्ड  (UP Board) परीक्षा में पास करने का दावा कर के पैसे मांग रहे हैं और स्टूडेंट्स के माता-पिता को ठग रहे हैं.

UP Board 2020: 10वीं और 12वीं की परीक्षा में पास करने के लिए स्टूडेंट्स और पैरेंट्स को मिल रही फर्जी कॉल, UP Board ने किया सचेत

UP Board Result 2020: यूपी बोर्ड ने स्टूडेंट्स को फेक कॉल के प्रति सचेत किया है.

नई दिल्ली:

UP Board Result 2020: उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद (UPMSP) ने 10वीं और 12वीं बोर्ड के स्टूडेंट्स और उनके माता-पिता को फर्जी कॉल के प्रति सचेत किया है. दरअसल, कुछ लोग फर्जी कॉल करके स्टूडेंट्स को यूपी बोर्ड  (UP Board) परीक्षा में पास करने का दावा कर के पैसे मांग रहे हैं और स्टूडेंट्स के माता-पिता को ठग रहे हैं. ऐसी कॉल को लेकर UPMSP ने लोगों को सचेत किया है. 

यूपी बोर्ड के अनुसार, "कुछ ऐसे लोग हैं, जो खुद को बोर्ड का सदस्य बता रहे हैं और स्टूडेंट्स को यूपी बोर्ड एग्जाम 2020 में पास कराने के लिए पैसे मांग रहे हैं."

 UPMSP ने अपने बयान में कहा, "कुछ लोग कोविड-19 से उत्पन्न हुई स्थिति का फायदा उठाखर अपने लाभ के लिए बोर्ड रिजल्ट को लेकर लोगों के बीच भ्रम पैद कर रहे हैं. छात्रों और अभिभावकों को इन फर्जी कॉल में नहीं पड़ना चाहिए. हम आपसे अनुरोध करते हैं कि अगर आपको भी इस तरह ही कॉल मिलती हैं तो पुलिस को इस बारे में सूचित करें."


UP बोर्ड रिजल्ट 2020
उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने बीते कुछ दिनों पहले कहा था कि यूपी बोर्ड (UP Board Result) का 10वीं और 12वीं क्लास का रिजल्ट जून के महीने में जारी किया जाएगा. मंत्री ने ये भी कहा था कि 10वीं और 12वीं क्लास की आंसर शीट जांचने की प्रक्रिया राज्य में कई जगहों पर शुरू हो गई है, जो ग्रीन जोन में हैं. बता दें कि यूपी बोर्ड का रिजल्ट ऑफिशियल वेबसाइट upresults.nic.in पर जारी किया जाएगा. पिछले साल बोर्ड ने यूपी बोर्ड का रिजल्ट अप्रैल के महीने में जारी किया था.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इस बार यूपी बोर्ड की परीक्षाएं 18 फरवरी से शुरू होकर 6 मार्च तक चली थीं. लेकिन कोरोनावायरस और लॉकडाउन के चलते बोर्ड परीक्षाओं की कॉपियां चेक नहीं हो पाई थीं. इस बार 10वीं की बोर्ड की परीक्षाओं में करीब 10 लाख और 12वीं में करीब 26 लाख स्टूडेंट्स शामिल हुए थे.