उपराष्ट्रपति ने कहा, "लॉकडाउन के दौरान भी जारी रखें अकेडमिक कैलेंडर के तहत पढ़ाई"

उपराष्ट्रपति खुद IIPA के अध्यक्ष और तीन विश्वविद्यालयों के चांसलर हैं. उन्होंने संस्थानों से स्टूडेंट्स तक पहुंचने और आत्म शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए कहा है.

उपराष्ट्रपति ने कहा,

उपराष्ट्रपति ने यूनिवर्सिटी से लॉकडाउन के दौरान एकेडमिक कैलेंडर को जारी रखने के लिए कहा है.

नई दिल्ली:

कोरोनावायरस (Coronavirus) महामारी के चलते स्कूल बंद होने के कारण ज्यादातर शैक्षणिक संस्थान स्टूडेंट्स को ऑनलाइन ही पढ़ा रहे हैं. इसपर भारत के उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने आज सभी यूनिवर्सिटी और शैक्षणिक संस्थानों को लॉकडाउन अवधि के दौरान अकेडमिक कैलेंडर की निरंतरता सुनिश्चित करने के लिए टेक्नोलॉजी का अच्छी तरह से उपयोग करने के लिए कहा है. 

उपराष्ट्रपति ने दिल्ली, पुडुचेरी, पंजाब, माखनलाल चतुर्वेदी यूनिवर्सिटी और इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन के डायरेक्टर से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बात-चीत की. उपराष्ट्रपति ने पाया की चीजों को सामान्य स्थिति में वापस आने में अभी समय लगेगा. इसके लिए उन्होंने कोरोनावायरस से हुई समस्याओं को हल करने के लिए सभी के प्लान्स पूछे. 

बता दें कि उपराष्ट्रपति खुद IIPA के अध्यक्ष और तीन विश्वविद्यालयों के चांसलर हैं. उन्होंने संस्थानों से स्टूडेंट्स तक पहुंचने और आत्म शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए कहा है. उपराष्ट्रपति ने कहा कि स्टूडेंट्स को इंटरेक्टिव तरीके से पढ़ाने के लिए टेक्नोलॉजी का बेहतर तरीके से इस्तेमाल किया जाए. उन्होंने कहा कि लॉकडाउन के दौरान टेक्नोलॉजी के माध्यम से टीचिंग और लर्निंग की प्रक्रिया जारी रहे. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

इसके अलावा उपराष्ट्रपति ने यूनिवर्सिटी और शैक्षणिक संस्थानों को हॉस्टल में रहने वाले स्टूडेंट्स के स्वास्थ्य की सुरक्षा के लिए नए कदम उठाने पर भी जोर दिया है.  उन्होंने शैक्षणिक संस्थानों से सरकार और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा सोशल डिस्टेंसिंग और आइसोलेशन के बारे में दिए गए निर्देशों का पालन कराने के लिए भी कहा है. 

उन्होंने स्टूडेंट्स को हेल्दी डाइट फॉलो करने, रोजाना एक्सरसाइज करने खराब जीवनशैली से दूर रहने की सलाह दी है. उन्होंने स्टूडेंट्स प्रकृति के बीच रहने का महत्व भी बताया. उन्होंने विश्वविद्यालयों से स्टूडेंट्स को समय का सदुपयोग करने और उनके द्वारा दी गई ई-लर्निंग सामग्री का लाभ उठाने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए कहा है.