NDTV Khabar

इजरायल में सबसे लंबे समय तक पीएम बने रहने वाले नेता हैं नेतन्‍याहू, PM मोदी हैं करीबी

बेंजामिन नेतन्याहू (Benjamin Netanyahu) इजरायल के इतिहास में सबसे लंबे समय तक पीएम बने रहने वाले नेता हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
इजरायल में सबसे लंबे समय तक पीएम बने रहने वाले नेता हैं नेतन्‍याहू, PM मोदी हैं करीबी

Benjamin Netanyahu: नेतन्याहू भारत के पीएम नरेंद्र मोदी को अपना करीबी दोस्त मानते हैं.

नई दिल्ली:

बेंजामिन नेतन्याहू (Benjamin Netanyahu) इजराइल के प्रधानमंत्री हैं. वह लिकुड पार्टी (Likud Party) के अध्यक्ष हैं. नेतन्याहू साल 2009 से इजराइल के प्रधानमंत्री (PM Of Israel) हैं. इससे पहले 1996 से 1999 तक वह प्रधानमंत्री पद पर रह चुके हैं. नेतन्याहू इजरायल के इतिहास में सबसे लंबे समय तक पीएम बने रहने वाले नेता हैं. नेतन्याहू भारत के पीएम नरेंद्र मोदी को अपना करीबी दोस्त मानते हैं. 69 वर्षीय नेतन्याहू (Netanyahu) का जन्म 28 अक्टूबर 1949 को तेल अवीव में हुआ. 1956 और 1958 के बीच और फिर 1963 से 1967 तक नेतन्याहू अपने परिवार के साथ अमेरिका में रहे. यहां उन्होंने (Benjamin Netanyahu) चेलटेनहम हाई स्कूल में पढ़ाई की. इसके बाद नेतन्याहू इजराइल डिफेंस फोर्सेज (IDF) में शामिल होने के लिए अपने देश वापस आ गए. 

इजराइल (Israel) के विदेश मंत्रालय की वेबसाइट पर दी गई जानकारी के मुताबिक वह IDF की एलीट कंमाडो यूनिट में शामिल हुए. इस समय उनकी उम्र 18 साल थी. उन्होंने कई बड़े ऑपरेशंस में भूमिका निभाई. नेत्यानाहू (Benjamin Netanyahu) ने हाइजैक हुए सबीना एयरलाइंस के विमान के बंधकों को बेन-गुरियन हवाई अड्डे पर छोड़ने में खास भूमिका निभाई थी. इस ऑपरेशंन के दौरान वह घायल भी हो गए थे. नेत्यानाहू कैप्टन के पद पर रहते हुए 6 साल बाद रिटायर हो गए, जिसके बाद उन्होंने बोस्टन में MIT में अध्ययन किया और B.Sc. आर्किटेक्चर और मैनेजमेंट स्टडीज में M.Sc की.


1984 में नेतन्याहू को संयुक्त राष्ट्र में इजरायल का राजदूत नियुक्त किया गया था और वह चार साल तक इस पद पर बने रहे थे. 1988 में इजरायल लौटने के बाद बेंजामिन नेतन्याहू ने राजनीतिक क्षेत्र में प्रवेश किया. उन्हें लिकुड पार्टी द्वारा वहां की संसद कनेसेट का सदस्या चुना गया. उन्होंने चार साल तक इस पद पर कार्य किया. बेंजामिन नेतन्याहू ने हिब्रू और अंग्रेजी में कई किताबें लिखी हैं, जिनमें से कुछ किताबें रूसी, फ्रेंच, अरबी, जापानी और अन्य भाषाओं में अनुवादित की गई हैं. उनकी प्रमुख किताबों में टेररिज्म: हाउ द वेस्ट कैन विन और अ ड्यूरेबल पीस: इजराइल एंड इट्स प्लेस अमंग द नेशंस शामिल हैं.

1993 में बने पहली बार प्रधानमंत्री
1993 में नेतन्याहू को लिकुड पार्टी का अध्यक्ष और प्रधानमंत्री का उम्मीदवार चुना गया. 1996 में एक इजरायली प्रधानमंत्री के लिए हुए पहले पहले प्रत्यक्ष चुनावों में बेंजामिन नेतन्याहू ने शिमोन पेरेस को हराया और वह इजराइल के नौवे प्रधानमंत्री बने. वह 1999 तक प्रधानमंत्री पद पर बने रहे. प्रधानमंत्री के रूप में अपना कार्यकाल पूरा होने के बाद नेतन्याहू ने इजरायल की उच्च तकनीकी कंपनियों के लिए एक व्यापारिक सलाहकार के रूप में कार्य किया. 2002 में वे राजनीति में लौटे और नवंबर 2002 से फरवरी 2003 तक विदेश मंत्री का पदभार संभाला. इसके बाद वह 2005 तक वित्त मंत्री भी रहे.

2009 से अब तक प्रधानमंत्री पद पर बने हुए हैं नेतन्याहू
फरवरी 2009 में 18वें कनेसेट के चुनावों के बाद, बेंजामिन नेतन्याहू ने 31 मार्च, 2009 को प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ली. 18 मार्च, 2013 को नेतन्याहू ने इजरायल की 33वीं सरकार का गठन किया. 14 मई, 2015 को, उन्होंने प्रधानमंत्री के रूप में 34वीं सरकार का गठन किया. साथ ही उन्होंने विदेश मामलों, संचार और क्षेत्रीय सहयोग विभागों की जिम्मेदारी भी संभाली.14 नवंबर 2018 को रक्षा मंत्री एविग्डोर लिबरमैन के इस्तीफे के बाद नेतन्याहू ने रक्षा मंत्री का पदभार संभाला.

अन्य खबरें
बेंजामिन नेतन्याहू को इस्राइली चुनाव में भी 'मोदी लहर' की उम्मीद, देखें Video
तेल क्षेत्र पर हमले के बाद अमेरिका-नीत गठबंधन में शामिल हुआ सऊदी अरब

टिप्पणियां



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement