NDTV Khabar

World Population Day 2018: जानिए इसके बारे में 5 बातें

विश्‍व जनसंख्‍या दिवस (World Population Day) हर साल 11 जुलाई को मनाया जाता है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
World Population Day 2018: जानिए इसके बारे में 5 बातें

विश्‍व जनसंख्‍या दिवस की शुरुआत 1989 में हुई थी

खास बातें

  1. हर साल 11 जुलाई को विश्‍व जनसंख्‍या दिवस मनाया जात है
  2. इसका मकसद जनसंख्‍या के मुद्दों पर ध्‍यान दिलाना है
  3. इस साल की थीम है- 'परिवार कल्‍याण मानव का अध्‍ािकार'
नई दिल्‍ली: World Population Day 2018: हर साल अंतरराष्‍ट्रीय जनसंख्‍या दिवस (World Population Day) मनाया जाता है. इस मौके पर संयुक्‍त राष्‍ट्र संघ कई कार्यक्रमों का आयोजन करता है, जिनका मकसद बढ़ती जनसंख्‍या के मुद्दों के प्रति जागरुकता फैलाना है. ये मुद्दे अधिक जनसंख्‍या, कम जनसंख्‍या या तेजी से बढ़ती जनसंख्‍या जैसे हो सकते हैं. हर साल विश्‍व जनसंख्‍या दिवस की एक खास थीम होती है. यहां पर हम आपको जनसंख्‍या दिवस के बारे में कुछ खास बातें बता रहे हैं: 

नवविवाहितों को 'वेडिंग गिफ्ट' देगी योगी आदित्यनाथ सरकार, बांटे जाएंगे कॉन्डोम, गर्भनिरोधक गोलियां

क्‍या है विश्‍व जनसंख्‍या दिवस?
संयुक्‍त राष्‍ट्र संघ के मुताबिक विश्‍व जनसंख्‍या दिवस जनसंख्‍या से जुड़े हुए मुद्दों के महत्‍व की ओर ध्‍यान दिलाना चाहता है. इसकी शुरुआत 1989 में हुई थी. 

जनसंख्‍या दिवस कब मनाया जाता है?
विश्‍व जनसंख्‍या दिवस हर साल 11 जुलाई को मनाया जाता है. इस बार यह तारीख बुधवार को पड़ रही है. 

बिग बी बोले, भारत जैसा विकास किसी और देश में नहीं दिखा

विश्‍व जनसंख्‍या दिवस का स्‍लोगन 
इस साल विश्‍व जनसंख्‍या दिवस का स्‍लोगन या थीम है- 'Family Planning is a Human Right.' यानी कि 'परिवार कल्‍याण मानव का अधिकार है'.

टिप्पणियां
दुनिया की जनसंख्‍या कितनी है?
Worldometers के मुताबक इस वक्‍त विश्‍व की कुल जनसंख्‍या 7.6 बिलियन यानी कि 760 करोड़ है. चीन (141 करोड़) विश्‍व की सबसे ज्‍यादा जनसंख्‍या वाला देश है, जबकि भारत (135 करोड़) दूसरे और अमेरिका (32.67 करोड़ ) तीसरे नंबर पर है.

भारत के लिए बड़ी चुनौती है जनसंख्‍या 
अगर आंकड़ों की मानें तो भारत में हर मिनट 25 बच्‍चे पैदा होते हैं. इस आंकड़ें में सिर्फ वो बच्‍चे शामिल हैं जो अस्‍पताल में पैदा होते हैं. इन आंकड़ों में वो बच्‍चे नहीं हैं जो घर में पैदा होते हैं. एक अनुमान के मुताबिक अगर भारत ने अपनी बढ़ती आबादी पर काबू नहीं पाया तो वह आने वाले सालों में चीन को पछाड़ दुनिया में सबसे ज्‍यादा आबादी वाला देश बन जाएगा.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement