पीएम मोदी के आगमन से पहले बीएचयू में नियुक्तियों का मामला गरमाया, बैनर-होर्डिंग लगे

बैनरों पर लिखा गया है कि बीएचयू के वर्तमान कुलपति नियुक्तियों में हिंदी भाषी अभ्यर्थियों के साथ भेदभाव करते हैं

पीएम मोदी के आगमन से पहले बीएचयू में नियुक्तियों का मामला गरमाया, बैनर-होर्डिंग लगे

वाराणसी में बीएचयू के कुलपति के खिलाफ हिंदी विरोधी होने का आरोप लगाते हुए होर्डिंग लगाए गए हैं.

वाराणसी:

पीएम मोदी के काशी आगमन से पहले बीएचयू में असिस्टेंट प्रोफेसर नियुक्ति का मामला गरमा गया है. शहर के कई इलाकों में बैनर और होर्डिंग लगाए गए हैं. बैनर पर लिखा गया - राजभाषा हिंदी का अपमान क्यों? बीएचयू के कुलपति राकेश भटनागर पर आरोप लगाते हुए बैनरों पर लिखा गया है कि बीएचयू के वर्तमान कुलपति नियुक्तियों में हिंदी भाषी अभ्यर्थियों के साथ भेदभाव करते हैं.

बैनरों पर लिखा है कि वर्तमान में हिंदी माध्यम के विद्यार्थियों की उपेक्षा देश में हर स्तर ( शिक्षा व रोजगार) पर हो रही है.
सिविल सेवा में हिंदी भाषी अभ्यर्थियों की सफलता घटती जा रही है. मांग की गई है कि "न्याय से लेकर रोजगार तक सरकार से लेकर जनसरोकार तक" राजभाषा हिंदी को राष्ट्रभाषा घोषित किया जाए.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का 16 फरवरी को वाराणसी दौरा, कई परियोजनाएं राष्ट्र को करेंगे समर्पित

मांग की गई है कि बीएचयू के कुलपति को बर्खास्त किया जाए एवं सभी असिस्टेंट प्रोफेसरों की नियुक्ति की न्यायिक जांच हो. बैनरों में निवेदक में डॉ कर्ण सिंह का नाम लिखा है.समस्त हिंदी भाषी विद्यार्थियों की ओर से बैनर और होर्डिंग लगाए गए हैं.

बनारस की सड़कों पर बीएचयू के वाइस चांसलर के खिलाफ पोस्टर और होर्डिंग लगे

VIDEO : प्रोफेसर फिरोज खान ने दिया इस्तीफा

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com