NDTV Khabar

दिल्ली में जल्द ही हाइड्रोजन-सीएनजी से दौड़ती नजर आएंगी बसें, सस्ता ईंधन प्रदूषण भी कम करेगा

सीएनजी के बाद अब हाइड्रोजन-सीएनजी की तरफ बढ़े कदम, दिल्ली में पहले हाइड्रोजन-सीएनजी पंप का हुआ भूमि पूजन

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
दिल्ली में जल्द ही हाइड्रोजन-सीएनजी से दौड़ती नजर आएंगी बसें, सस्ता ईंधन प्रदूषण भी कम करेगा

प्रतीकात्मक फोटो.

खास बातें

  1. पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर सेमी कामर्शियल प्लांट लगाने का फैसला
  2. पचास BS-4 सीएनजी बसों में यह ईंधन भरकर रिसर्च की जाएगी
  3. छह महीने के प्रदर्शन की रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट को दी जाएगी
नई दिल्ली:

दिल्ली में जल्द ही सीएनजी के बाद हाइड्रोजन CNG पर बसें दौड़ती हुई नज़र आ सकती हैं. गुरुवार को दिल्ली के राजघाट डीटीसी बस डिपो में देश के पहले हाइड्रोजन सीएनजी प्लांट का भूमि पूजन किया गया. सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर इंडियन ऑयल और इंद्रप्रस्थ गैस लिमिटेड ने मिलकर हाइड्रोजन सीएनजी पर स्टडी करने के लिए पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर सेमी कामर्शियल प्लांट लगाने का फैसला किया है. इसके तहत 50 BS-4 सीएनजी बसों में यह ईंधन भरकर रिसर्च की जाएगी. इंद्रप्रस्थ गैस लिमिटेड के मुताबिक यह प्लांट नवंबर तक शुरू हो जाएगा और इसके 6 महीने के प्रदर्शन की रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट को दी जाएगी.

क्या है हाइड्रोजन सीएनजी?
हम जो सीएनजी इस्तेमाल करते हैं वह पेट्रोल और डीजल के मुकाबले कम प्रदूषण करती है. लेकिन इसी में जब हाइड्रोजन मिल जाता है तो प्रदूषण की मात्रा और भी कम हो जाती है. अभी तक की रिसर्च बताती है कि हाइड्रोजन मिली सीएनजी को जब इस्तेमाल किया गया तो उससे प्रदूषण में काफी कमी आती देखी गई. इसलिए वाहनों से निकलने वाले हानिकारक धुंए और ईंधन को सस्ता करने के लिए इंडियन ऑयल लिमिटेड ने नेचुरल गैस से हाइड्रोजन सीएनजी ईंधन बनाने के लिए एक कॉम्पैक्ट रिफॉर्मर तैयार किया. इस ईंधन को आटोमोटिव रिसर्च एसोसिएशन ऑफ इंडिया (ARAI) में जब टेस्ट किया गया तो पाया गया कि साधारण सीएनजी के मुकाबले इसमें 70 प्रतिशत कार्बन मोनोऑक्साइड और 25 फीसदी हाइड्रोकार्बन कम निकले हैं.


क्या कहते हैं जानकार?
एनवायरमेंट पॉल्यूशन कंट्रोल अथॉरिटी (EPCA) के चैयरमेन भूरेलाल के मुताबिक 'जब देश की राजधानी दिल्ली में डीजल के वाहन चलते थे तो उस वक्त सीएनजी आने से दिल्ली पर काफी असर पड़ा और प्रदूषण कम हुआ. ऐसे में अब हाइड्रोजन सीएनजी आने से दिल्ली में पॉल्यूशन के स्तर में काफी गिरावट दर्ज की जाएगी. यह प्रोजेक्ट बढ़ते प्रदूषण को कम करने के लिए बेहतर कदम है.'

अमेरिका के वैज्ञानिकों ने पानी से हाइड्रोजन ऑक्सीजन अलग करने का नया तरीका निकाला

इंडियन आयल के निदेशक राम कुमार के मुताबिक 'हाइड्रोजन सीएनजी अभी की सीएनजी के मुकाबले 30 से 40 पैसे महंगी होगी लेकिन बढ़ते पॉल्यूशन को कम करने के साथ साथ इसकी रनिंग ज्याद होगी.

अब कचरे से उड़ सकेगा विमान, खोज लिया प्लास्टिक से ईंधन बनाने का ये नायाब तरीका

EPCA की सदस्य सुनीता नारायण ने कहा 'सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद जल्द ही इस प्रोजेक्ट को शुरू किया जाएगा. हालांकि यह प्रोजेक्ट तीन महीने की देरी से चल रहा है. उम्मीद है जल्द ही इस प्रोजेक्ट को पूरा कर कर लिया जाएगा. इसके साथ-साथ दिल्ली के सीएनजी पंप में भी किसी तरह का बदलाव नहीं करना पड़ेगा.

टिप्पणियां

VIDEO : दुनिया विज्ञान पर बात करती है, हम हनुमान जी की जाति पर



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement