NDTV Khabar

दिल्ली : DUSU का चुनाव 'आप' की छात्र इकाई CYSS और AISA मिलकर लड़ेंगी

आम आदमी पार्टी दिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संगठन के चुनाव में वामपंथी छात्र संगठन से करेगी गठबंधन

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
दिल्ली : DUSU का चुनाव 'आप' की छात्र इकाई CYSS और AISA मिलकर लड़ेंगी

गोपाल राय (फाइल फोटो).

खास बातें

  1. एआईएसए अध्यक्ष और उपाध्यक्ष पद के लिए चुनाव लड़ेगी
  2. सीवाईएसएस सचिव और संयुक्त सचिव पद के लिए उम्मीदवार उतारेगी
  3. गोपाल राय ने कहा- छात्र राजनीति में सकारात्मकता की शुरुआत होगी
नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी के नेता गोपाल राय ने बुधवार को कहा कि 12 सितंबर को होने वाले दिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संघ (डूसू) चुनावों में पार्टी की छात्र इकाई सीवाईएसएस और वामपंथी छात्र संगठन एआईएसए मिलकर चुनाव लड़ेंगे.    

एक संवाददाताओं को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि ऑल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन (एआईएसए) अध्यक्ष और उपाध्यक्ष पद के लिए चुनाव लड़ेगी जबकि छात्र युवा संघर्ष समिति (सीवाईएसएस) सचिव और संयुक्त सचिव पद के लिए उम्मीदवार उतारेगी. आम आदमी पार्टी के दिल्ली के संयोजक राय ने कहा कि दिल्ली विश्वविद्यालय में बदलाव, बेहतर शिक्षा और दूसरी सुविधाओं के लिए सीवाईएसएस और एआईएसए संयुक्त रूप से चुनाव लड़ेंगे.    

यह भी पढ़ें : VIDEO: जब राजधानी की सड़कों पर ट्रैफिक नियमों की धज्जियां उड़ाते दिखे DU के छात्र

राय ने कहा कि ‘‘डीयू के छात्र छात्रसंघ चुनावों में ‘बाहुबल’ और ‘धनबल’ से आजिज आ चुके हैं. बेहतर शिक्षा और सुविधाओं के लिए छात्र बदलाव चाहते हैं. सीवाईएसएस और एआईएसए के गठजोड़ के साथ छात्र राजनीति में सकारात्मकता की शुरुआत होगी.’’

उन्होंने कहा कि दिल्ली विश्वविद्यालय में वैकल्पिक राजनीति के लिए CYSS और AISA मिलकर चुनाव लड़ेंगे.दिल्ली की छात्र राजनीति में आज एक भय का माहौल बना हुआ है. DUSU चुनाव आते ही हुड़दंगाई दिल्ली के कैम्पसों में शुरू हो जाती है. गुंडागर्दी और पैसों के बल पर चुनाव लड़े जाते हैं. हम इस प्रथा को खत्म करेंगे.

टिप्पणियां
VIDEO : छात्रों का भविष्य अधर में

गोपाल राय ने बताया कि इस बार दिल्ली विश्वविध्यालय (DUSU) के चुनावों में आम आदमी पार्टी की छात्र विंग CYSS और विश्वविद्यालय की मौजूदा छात्र विंग AISA साथ मिलकर चुनाव लड़ेंगी. उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय में ABVP और NSUI की गुंडागर्दी के कारण वहां के अध्यापकों, छात्रों एवं  कर्मचारियों के बीच बदलाव की, एक सकारात्मक राजनीति की मांग उठ रही थी. उन सभी की भावनाओं को देखते हुए हमने ये फैसला लिया है.
(इनपुट भाषा से भी)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement