Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

दिल्ली के चार लाख छोटे दुकानदारों पर रोजी-रोटी छिनने का खतरा

पगड़ी देकर दुकान किराए पर लेने वाले दुकानदार निकाले जा सकते हैं, राहत न देने पर मतदान में 'नोटा' का बटन दबाने की चेतावनी

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
दिल्ली के चार लाख छोटे दुकानदारों पर रोजी-रोटी छिनने का खतरा

प्रतीकात्मक फोटो.

नई दिल्ली:

राष्ट्रीय राजधानी के छोटे दुकानदारों के सामने इन दिनों उनकी दुकानों से निकाले जाने का खतरा मंडराने लगा है. करीब चार लाख कारोबारियों को मुश्किल का सामना करना पड़ रहा है, जिन्होंने पगड़ी देकर दुकान किराए पर ली थी. कम से कम 10 लाख लोग पगड़ी की दुकान से बाहर निकाले जाने से प्रभावित होंगे. इससे 20-30 लाख मजदूर और सप्लायर भी प्रभावित होंगे.

छोटे दुकानदारों से जुड़े व्यापारी संगठनों का कहना है कि दिल्ली किराया कानून में संशोधन कर दुकानदारों को राहत दिलाई जाए. अगर 15 दिनों में केंद्र सरकार दिल्ली के दुकानदारों को राहत देने के लिए कोई कदम नहीं उठाती तो वे मतदान से दूर रहेंगे और चुनाव में नोटा का बटन दबाएंगे.

व्यापारी संगठनों ने सोमवार को एक बयान में कहा कि 'राजधानी पगड़ी किरायेदार संगठन' के बैनर तले उन्होंने इस मुद्दे पर दिल्ली के सांसदों से कई बार मुलाकात की. भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के महेश गिरि, डॉ हर्षवर्धन, डॉ उदित राज और मनोज तिवारी जैसे सांसदों ने तत्कालीन शहरी विकास मंत्री एम वेंकैया नायडू के सामने व्यापारियों को उनकी दुकान से बाहर निकालने का मामला सामने रखा था.


महाराष्ट्र : लोकल बॉडी टैक्स के विरोध में व्यापारी हड़ताल पर

बयान के अनुसार, संगठन के पदाधिकारियों ने भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से पिछले चार सालों में कम से कम 15 बार मुलाकातें की हैं. 2016 में अमित शाह ने आश्वासन भी दिया था कि एक हफ्ते में कानून को पगड़ी देकर दुकान किराए पर लेने वाले दुकानदारों के पक्ष में संशोधित किया जाएगा, लेकिन जमीन माफिया से जुड़े लोगों के दबाव के कारण कोई फैसला सरकार ने नहीं लिया.

नोटबंदी : डिजिटल लेनदेन की राह नहीं आसान, व्यापारी संशय में

बयान में कहा गया है कि सैकड़ों दुकानदार अपनी रोजी-रोटी का साधन छिनने के डर से हार्ट अटैक एवं स्ट्रोक के शिकार हो चुके हैं. दसियों हजार परिवार दुकान से बाहर निकाले जाने के डर से डिप्रेशन में जिंदगी बिता रहे हैं.

दुकानदारों का कहना है कि उन्होंने केंद्रीय शहरी विकास और आवास मंत्री हरदीप सिंह पुरी समेत कई भाजपा नेताओं से पिछले साल मुलाकात की, लेकिन उनकी समस्या दूर नहीं हुई. व्यापारी संगठनों ने कहा है कि देश के सभी राज्यों में पगड़ी किरायेदार सुरक्षित हैं, पर दिल्ली के पगड़ी किरायेदार के साथ सौतेला व्यवहार हो रहा है.

टिप्पणियां

खुदरा क्षेत्र में एफडीआई से प्रभावित नहीं होंगे छोटे दुकानदार : समीक्षा

बयान में कहा गया है कि दिल्ली के लगभग सभी व्यापारी संघों की मांग है कि इस बजट सत्र में सरकार तुरंत एक संशोधन विधेयक लाकर उसे तुरंत पारित भी करे. अगर विधेयक पारित नहीं होता है तो अध्यादेश लाकर व्यापारियों को राहत दें.
(इनपुट आईएएनएस से)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... दिल्ली हिंसा: आधी रात CM केजरीवाल के घर के बाहर JNU और जामिया के छात्रों ने किया प्रदर्शन, पुलिस ने बरसाई पानी की बौछारें

Advertisement