दिल्ली मेट्रो ने ''मेक इन इंडिया'' के अंतर्गत स्वदेशी सिग्नल प्रौद्योगिकी विकसित की

स्वदेशी प्रौद्योगिकी आई-एटीएस की सहायता से अब भारतीय मेट्रो ट्रेन की निर्भरता विदेशी आपूर्तिकर्ताओं पर से काफी हद तक कम हो जाएगी

दिल्ली मेट्रो ने ''मेक इन इंडिया'' के अंतर्गत स्वदेशी सिग्नल प्रौद्योगिकी विकसित की

प्रतीकात्मक फोटो.

नई दिल्ली:

दिल्ली मेट्रो रेल निगम (DMRC) ने मंगलवार को कहा कि उसने सरकार की प्रमुख ''मेक इन इंडिया'' (Make in India) पहल के तहत मेट्रो ट्रेनों (Metro Train) के लिए स्वदेश निर्मित सिग्नल प्रौद्योगिकी (Signal technology)  के विकास की दिशा में एक बड़ा कदम उठाया है. डीएमआरसी ने कहा कि इसी के हिस्से के तौर पर आई-एटीएस (सिग्नल प्रणाली की उप प्रणाली) की मंगलवार को शुरुआत की.


उन्होंने एक बयान में कहा, '' डीएमआरसी ने 15 सितंबर को अभियंता दिवस के मौके पर स्वदेश निर्मित सीबीटीसी (संचार आधारित रेल नियंत्रण) आधारित मेट्रो रेल सिग्नल प्रौद्योगिकी के विकास की दिशा में एक बडा कदम उठाया है.'' एटीएस एक कंप्यूटर आधारित प्रणाली है जोकि ट्रेन संचालन का प्रबंधन करती है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


अधिकारियों ने बताया कि आई-एटीएस स्वदेश में विकसित प्रौद्योगिकी है जिसकी सहायता से अब भारतीय मेट्रो ट्रेन की निर्भरता विदेशी आपूर्तिकर्ताओं पर से काफी हद तक कम हो जाएगी.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)