NDTV Khabar

दिल्ली का मुखर्जी नगर मारपीट केस : सरबजीत के खिलाफ पहले से दर्ज हैं चार मामले

क्राइम ब्रांच कर रही जांच - जिस तरीके से पुलिसकर्मियों ने ड्राइवर को काबू में किया, क्या उससे बचा जा सकता था?

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
दिल्ली का मुखर्जी नगर मारपीट केस : सरबजीत के खिलाफ पहले से दर्ज हैं चार मामले

दिल्ली के मुखर्जी नगर मारपीट मामले की जांच क्राइम ब्रांच ने शुरू कर दी है.

खास बातें

  1. मारपीट का मामला अब राजनीतिक रंग भी पकड़ता जा रहा
  2. अकाली नेता मनिंदर जीत सिंह सिरसा की पिटाई कर दी
  3. गुरुद्वारा बंगला साहिब के सेवादार का हाथ तोड़ा था सरबजीत ने
नई दिल्ली:

दिल्ली के मुखर्जी नगर में एक ग्रामीण सेवा के ड्राइवर और पुलिसकर्मियों के बीच हुई मारपीट के मामले की जांच क्राइम ब्रांच ने शुरू कर दी है. पता चला है सरबजीत के खिलाफ पहले से ही चार आपराधिक मामले दर्ज हैं. अब जांच इस बात की भी की जा रही है कि जिस तरीके से पुलिसकर्मियों ने ड्राइवर को काबू किया क्या उससे बचा जा सकता था?

दिल्ली के मुखर्जी नगर में सरजबीत को जब एएसआई योगवीर ने पीछे से पकड़कर काबू में कर लिया था, तो उसे बाकी पुलिसकर्मी बेरहमी से पीटते क्यों रहे? लोग वीडियो बनाते रहे. क्या इससे बचा जा सकता था. अब जॉइंट कमिश्नर रैंक के अधिकारी इसी बात की जांच कर रहे हैं. पुलिस के मुताबिक इस बात की बाकायदा ट्रेनिंग होती है कि जब कोई हथियार लहरा रहा हो तो उसे किस तरह काबू में करना है. सवाल यह है कि उस ट्रेनिंग में क्या और सुधार की जरूरत है.

दिल्ली के मुखर्जी नगर मामले में पुलिस ने दो क्रॉस एफआईआर दर्ज कीं


मारपीट का ये मामला अब राजनीतिक रंग पकड़ता जा रहा है. सोमवार की रात हज़ारों की संख्या में फिर लोग मुखर्जी नगर थाने के बाहर इकट्ठे हुए और उन्होंने अपने ही समुदाय के अकाली नेता मनिंदर जीत सिंह सिरसा की पिटाई कर दी. आरोप लगाया कि वे पुलिस से मिले हुए हैं. कुछ पत्रकारों को भी पीटा गया. इससे पहले रविवार को वाहनों में तोड़ फोड़ की गई थी और 8 पुलिसकर्मियों समेत एक एसीपी को बुरी तरह पीटा गया. हंगामा कर रहे लोग अलग अलग गुटों और राजनीतिक दलों में बंटे हुए हैं. कुछ लोग सरबजीत के कृपाण लहराने को सही मानते हैं, तो कुछ गलत.

दिल्ली: मुखर्जी नगर में फिर हुआ हंगामा, अकाली दल के विधायक और पत्रकार से हाथापाई, देखें VIDEO

जांच में पुलिस को सरबजीत के खिलाफ 4 आपराधिक मामले और मिले हैं. उसके खिलाफ तीन केस शांतिभंग के दर्ज हैं. मारपीट का एक केस संसद मार्ग थाने में दर्ज है. तब उसने गुरुद्वारा बंगला साहिब के सेवादार का झगड़े के बाद हाथ तोड़ दिया था. क्राइम ब्रांच ने वारदात के पूरे वीडियो फुटेज, सीसीटीवी फुटेज और दस्तावेज अपने कब्जे में ले लिए हैं. उसकी वह ग्रामीण सेवा की गाड़ी भी जब्त कर ली गई है जिसे उसके बेटे ने पुलिसकर्मियों पर चढ़ाया था.

VIDEO : रात भर हंगामा, एमएलए से हाथापाई

टिप्पणियां

पुलिस ने इस पूरे मामले की रिपोर्ट गृह मंत्रालय को भेज दी है.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement