NDTV Khabar

मुंबई : 1500 से 2000 रुपये में भारतीय नागरिक बनाने के गोरखधंधे का पर्दाफाश

मुंबई की क्राइम ब्रांच ने पांच लोगों को गिरफ्तार कर गिरोह का पर्दाफाश किया, पकड़े गए लोगों में से दो बांग्लादेशी

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मुंबई : 1500 से 2000 रुपये में भारतीय नागरिक बनाने के गोरखधंधे का पर्दाफाश

प्रतीकात्मक फोटो.

खास बातें

  1. 24 साल का रेहान रॉबी शुओन बांग्लादेशी, पासपोर्ट भारतीय
  2. बांग्लादेशी मिनाज़ुल हसन भी भारतीय पासपोर्ट बनवाने की फिराक में था
  3. फर्जी दस्तावेजों के जरिए असली पासपोर्ट बनवाए जा रहे थे
मुंबई:

एक तरफ घुसपैठियों को भारतीय नागरिक बनने से रोकने के लिए कड़े कानून बन रहे हैं. वहीं दूसरी तरफ फर्जी दस्तावेजों के जरिए विदेशियों के पासपोर्ट बनाने का गोरखधंधा चल रहा था. मुंबई की क्राइम ब्रांच ने इस मामले में पांच लोगों को गिरफ्तार कर गिरोह का पर्दाफाश किया है. एक तरफ देश में नागरिकता कानून में संशोधन पर घमासान जारी है दूसरी तरफ सिर्फ 1500 से 2000 रुपये में भारतीय नागरिक बनने का गोरखधंधा जारी है. मुंबई क्राइम ब्रांच ने ऐसे ही एक गिरोह का भंडाफोड़ कर पांच लोगों को पकड़ा है जिनमें दो बांग्लादेशी हैं.

24 साल का रेहान रॉबी शुओन बांग्लादेश में सिल्हेट का रहने वाला है लेकिन इसके पास भारतीय पासपोर्ट है. 6 नवंबर को शारजाह के लिए उड़ान भरने की कोशिश में पकड़ा गया. जांच हुई तो पता चला कि रेहान के घर में एक और बांग्लादेशी शख्स मिनाज़ुल हसन भारतीय पासपोर्ट बनवाने की फिराक में था.

टिप्पणियां

बांग्लादेशी युवकों के भारतीय पासपोर्ट देख हैरान पुलिस जब मामले की तह तक गई तो पता चला कि सिर्फ 1500 से 2000 रुपये में फर्जी दस्तावेजों के जरिए असली पासपोर्ट बन रहे थे. मामले में पकड़े गए तीन आरोपियों में निजकुमार विश्वकर्मा सांताक्रुज की देना बैंक में आधार कार्ड बनाने वाली एजेंसी का प्रतिनिधि है.


कहां तो देश में पीढ़ियों से रहने वाले हजारों भारतीय एनआरसी में नाम नहीं दर्ज करा पाने से परेशान हैं वहीं बांग्लादेशी घुसपैठिए फर्जी दस्तावेजों के जरिए पासपोर्ट बनवाकर देश पर बोझ बन रहे हैं.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... Good Newwz Box Office Collection Day 22: अक्षय कुमार की फिल्म ने 22वें दिन भी की धुआंधार कमाई, जानें कुल कलेक्शन

Advertisement