दिल्ली में RFID कोड के जरिए पार्किंग का पायलट प्रोजेक्ट साल के अंत तक

पर्यावरण प्रदूषण नियंत्रण प्राधिकरण के चेयरमैन भूरे लाल और सदस्य सुनीता नारायण ने कहा कि लाजपत नगर -3, कमला नगर और कृष्णा नगर में सबसे पहले यह सुविधा शुरू होगी

दिल्ली में RFID कोड के जरिए पार्किंग का पायलट प्रोजेक्ट साल के अंत तक

प्रतीकात्मक फोटो.

नई दिल्ली:

पर्यावरण प्रदूषण नियंत्रण प्राधिकरण ( EPCA) के चेयरमैन भूरे लाल और सदस्य सुनीता नारायण ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने पार्किंग के लिए RFID कोड के जरिए पार्किंग की सुविधा देने का निर्देश दिया है. फिलहाल लाजपत नगर -3, कमला नगर और कृष्णा नगर में इस साल के अंत तक RFID कोड के जरिए पार्किंग कराने का पायलट प्रोजेक्ट शुरू होगा.

उन्होंने कहा कि फिलहाल दिक्कत यह है कि नई कार में जो RFID कोड लगकर आ रहे हैं उसमें रीडर नहीं है, इसलिए वे काम नहीं आएंगे. अब हम बैठक करके ऐसा ब्लू प्रिंट तैयार करके कोर्ट के पास जाएंगे कि क्या नई कार में जो RFID लग कर आ रहे हैं उसे हम इस्तेमाल कर सकते हैं? या नगर निगम जैसे कामार्शियल गाड़ियों में RFID टैग लगाकर दे रही है उसे पार्किंग के लिए इस्तेमाल करें? ये बात कोर्ट की अगली सुनवाई में पता चलेगी.

उन्होंने कहा कि पार्किंग में RFID का इस्तेमाल होने से ये पता चल पाएगा की उस गाड़ी के मालिक ने पार्किंग टैक्स दिया, अगर नहीं दिया है तो क्यों नहीं दिया और कितना दिया.

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com