Coronavirus Pandemic: लॉकडाउन के दौरान खाना बांटने के एक TikTok वीडियो ने बिछड़े पिता को परिवार से मिलाया

TikTok पर अपलोड हुए एक वीडियो ने एक शख्स को दो सालों बाद अपने परिवार से मिला दिया. तेलंगाना के वेंकटेश्वरालु इस लॉकडाउन के वक्त में अब अपने परिवार के साथ हैं.

Coronavirus Pandemic: लॉकडाउन के दौरान खाना बांटने के एक TikTok वीडियो ने बिछड़े पिता को परिवार से मिलाया

TikTok पर अपलोड हुए एक वीडियो ने एक शख्स को दो सालों बाद अपने परिवार से मिला दिया. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

खास बातें

  • दो साल पहले लापता हो गए थे वेंकटेश्वरालु
  • TikTok वीडियो में पिता को देख बेटी ने पहचाना
  • बेटे को देखकर रोने लगे वेंकटेश्वरालु
लुधियाना:

तेलंगाना (Telangana) के एक भाई-बहन को कोरोनावायरस के इस दौर में लागू लॉकडाउन के चलते अपने खोए हुए पिता मिल गए. लॉकडाउन के इस संकट के दौर में अपना पेट भरने के लिए दूसरों पर निर्भर शख्स को एक टिकटॉक वीडियो में देखने के बाद आखिरकार परिवार उन्हें घर वापस ले आया. परिवार के लिए यह किसी सुखद आश्चर्य से कम नहीं रहा होगा क्योंकि परिवार उन्हें मृत समझकर उनका अंतिम संस्कार तक कर चुका था. भाई-बहन ने इस लॉकडाउन में लुधियाना में एक जगह पर बंट रहे खाने-पीने का पैकेट लेने के लिए खड़े पिता को एक टिकटॉक (TikTok) वीडियो में देखा था.

तेलंगाना के भद्राद्रि कोठागुदेम जिले के रोद्दम वेंकटेश्ववरलु अप्रैल 2018 में लापता हो गए थे. वे दिव्यांग हैं. उन्हें सुनने और बोलने में दिक्कत होती है. उनके परिवार ने उनके लापता होने पर पुलिस में इसकी शिकायत दर्ज कराई थी. लेकिन उनका कहीं पता नहीं चला. जब बहुत ढूंढने पर वो नहीं मिले तो उनके परिवार ने उन्हें मृत समझकर उनका अंतिम संस्कार कर दिया.दो साल बाद, उनसे 2000 किलोमीटर पंजाब पुलिस में कॉन्स्टेबल अजायब सिंह ने लुधियाना सिविल लाइन एरिया के एक मॉल के पास गरीब लोगों में खाना बंटने के दौरान एक वीडियो रिकॉर्ड किया और TikTok पर डाल दिया.

Newsbeep

पिछले गुरुवार को वेंकटेश्वरालु के गांव के एक व्यक्ति ने उनकी बेटी कनकदुर्गा को यह वीडियो दिखाया, जिन्होंने तुरंत अपने पिता को पहचान लिया.डिप्टी कमिश्नर अखिल चौधरी ने बताया कि उनके बेटे पेद्दीराजू उन्हें वापस घर ले जाने के लिए सोमावर को लुधियाना पहुंचे. पेद्दीराजू ने फोन पर बताया कि उनके पिता उन्हें देखते ही रोने लगे थे. लुधियाना के नून कलां पुलिस स्टेशन में कॉन्स्टेबल अजायब सिंह ने कहा कि वो खुद को खुशनसीब समझते हैं कि उनके वीडियो की वजह से एक परिवार एक हो पाया है.

वीडियो: घर जाने की उम्मीद में आनंद विहार पहुंच रहे हैं श्रमिक

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com




(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)