NDTV Khabar
होम | कम्युनिकेशन

कम्युनिकेशन

  • सरकार के झूठे आरोपों और लीक पर एनडीटीवी का छह बिंदुओं का जवाब
    एनडीटीवी और इसके प्रमोटरों के यहां अन्यायपूर्ण छापों के बाद, जिन्हें फली नरीमन जैसे संविधान विशेषज्ञों ने असंवैधानिक करार दिया, सरकार ने अब इनके ख़िलाफ़ कई अप्रामाणिक आरोप लीक किए हैं। ये लीक बिना किसी दस्तख़त के दस्तावेज़ के तौर पर जारी किए गए हैं। इन पर किसी अधिकारी का नाम तक नहीं है। साफ है कोई छल-कपट के इरादे से ग़लत तथ्य जारी कर रहा है। 
  • सीबीआई छापों पर NDTV का ताजा बयान
    ये बड़ा हैरान करने वाला है कि सीबीआई ने बिना किसी शुरुआती जांच के NDTV के दफ़्तरों और उसके प्रमोटर्स के घरों की तलाशी ली. ये प्रेस की आज़ादी पर खुला राजनीतिक हमला है.
  • आज के सीबीआई छापे पर एनडीटीवी का बयान
    आज सुबह सीबीआई ने एन डी टी वी और उनके प्रमोटर को अंतहीन झूठ और घिसेपिटे आरोपों के आधार पर परेशान करने का अभियान और तेज़ कर दिया.
  • सोशल मीडिया और ई-मेल अकाउंट्स हैक होने को लेकर NDTV का बयान
    NDTV के वरिष्‍ठ पत्रकारों के ई-मेल, ट्विटर अकाउंट हैक कर लिए गए हैं. संदर्भ से बाहर ई-मेल का उपयोग करने के प्रयास भी किए गए हैं. संबंधित अधिकारियों और साथ ही अदालत से भी कड़ी कार्रवाई करने की अपील की गई है.
  • NDTV के खिलाफ कार्रवाई पर एडिटर्स गिल्ड ने कहा, सेंसरशिप इमरजेंसी के दिनों जैसी
    NDTV इंडिया को एक दिन के लिए ब्लैकआउट कर देने के सरकारी पैनल के निर्णय की एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया कड़ी निंदा करता है. यह है एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया का पूरा बयान.
  • हमारे हिंदी चैनल एनडीटीवी इंडिया के खिलाफ आए आदेश पर एनडीटीवी का बयान
    सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय का आदेश प्राप्‍त हो चुका है. बेहद हैरानी की बात है कि NDTV को इस तरीके से चुना गया. हर चैनल और अखबार की कवरेज एक जैसी ही थी. वास्‍तविकता यह है कि NDTV की कवरेज विशेष रूप से संतुलित थी.
12345»

Advertisement

Advertisement